नक्सली मिथिलेश राम की गिरफ्तारी में लापरवाही पर हथौड़ी थानेदार सस्पेंड

SSP, Harpreet Kaur
हार्डकोर नक्सली मिथिलेश कुमार की गिरफ्तारी में लापरवाही बरतने व उसकी गतिविधियों से वरीय पदाधिकारियों को अवगत नहीं कराने पर हथौड़ी थानेदार ध्रुव कुमार सिंह को सस्पेंड कर दिया गया है. रविवार को यह कार्रवाई एसएसपी हरप्रीत कौर ने लगातार मिल रही शिकायत के बाद की. थाना क्षेत्र में हाल में हुई लूट- डकैती और चोरी की एक भी वारदातों का वह खुलासा नहीं कर पाये थे. एसएसपी ने बताया कि हथौड़ी थानेदार के खिलाफ अनुशासनहीनता, जांच में लापरवाही की शिकायत मिल रही थी.
थाना क्षेत्र के डीहजीवर के रहनेवाले नक्सली मिथिलेश राम की गतिविधि की भी वरीय पदाधिकारियों को सूचना नहीं दी गयी. 15 जून को नक्सली मिथिलेश ने अपने साथियों के साथ शिवहर जिले के पिपराही थाना क्षेत्र के कुअमा मिडिल स्कूल चौक के समीप पुलिस टीम पर बमबारी कर पुलिस की बोलेरो लूट ली थी. इसके बाद रून्नीसैदपुर होते हुए मुजफ्फरपुर की सीमा में घुसकर जमकर उत्पात मचाया था.
शिवहर में बड़ी वारदात की फिराक में थे नक्सली!
सीतामढ़ी. शिवहर के कुअमा चौक पर वाहन चेकिंग के दौरान पिपराही थाने की पुलिस पर फायरिंग व बम फेंकने की घटना में शामिल अपराधियों के पीछे नक्सलियों का हाथ बताया जा रहा है. शिवहर जिले में नक्सली किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में थे. पिपराही प्रखंड की कुअमा पंचायत के पूर्व मुखिया संजय कुमार वर्मा उर्फ डब्बू निशाने पर थे. हालांकि दो दिन पूर्व हुई घटना का अब तक कोई खुलासा तो नहीं हुआ है, लेकिन पूरे घटनाक्रम में खुफिया विभाग नक्सलियों की बड़ी साजिश मानकर चल रहा है.
पुलिस भी नक्सलियों की साजिश से इनकार नहीं कर रही है. बताया जाता है कि शिवहर व सीतामढ़ी में कुछ वर्षों से नक्सली गतिविधियां लगभग शून्य हो गयी हैं. संभावना है कि अपनी जमीन उखड़ते देख नक्सलियों का मारक दस्ता एक बार फिर सक्रिय होने की कोशिश कर रहा है. सूत्र यह भी बताते हैं कि पिछले 10 दिनों से शिवहर के इलाके में हथियार व गोला-बारूद जुटाये जा रहे थे. इसकी पुलिस को कोई भनक तक नहीं थी.
पहले से नक्सलियों के निशाने पर हैं डब्बू
कुअमा पंचायत के पूर्व मुखिया संजय कुमार वर्मा उर्फ डब्बू पहले से नक्सलियों के निशाने पर रहे हैं. उनकी सुरक्षा को लेकर शिवहर पुलिस ने 2014 में बॉडीगार्ड तक उपलब्ध कराया था. शिवहर के तत्कालीन एसपी प्रकाश नाथ मिश्रा ने बाद में सुरक्षा व्यवस्था वापस ले ली. इसके बाद पूर्व मुखिया ने जान पर खतरा को देखते हुए डीजीपी को आवेदन देकर सुरक्षा की मांग की थी, लेकिन अब तक उन्हें बॉडीगार्ड उपलब्ध नहीं कराया जा सका है. गौरतलब हो कि इंटेलिजेंस ब्यूरो ने ही पूर्व मुखिया की जान पर खतरा बताया था. घटना से तीन दिन पूर्व ही डब्बू सपरिवार पटना चले गये थे.
आईजी कर रहे मॉनीटरिंग. शिवहर. कुअमा में फायरिंग व बम कांड की घटना के बाद आईजी ने जोनल टीम गठित कर दी है. वह स्वयं पूरे मामले की माॅनीटरिंग कर रहे हैं. इसमें शिवहर, सीतामढ़ी व मुजफ्फरपुर के एसडीपीओ स्तर के पदाधिकारी शामिल हैं. रविवार को विशेष टीम अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए खाक छानती रही. हालांकि अब तक पुलिस को कोई सफलता नहीं मिली है.

Input: Prabhat Khabar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *