उपभोक्ताओं को नियमित बिजली बिल 20 के बाद

एस्सेल से एनबीपीडीसीएल के हाथ बिजली व्यवस्था आने के बाद शहरी और ग्रामीण क्षेत्र के आठ प्रखंडों के उपभोक्ताओं का डाटा अभी नहीं मिल पाया है। बिजली बिल जमा नहीं होने से उपभोक्ता भटक रहे हैं। इससे उनमें आक्रोश बढ़ रहा है। उन्हें बिल पर फाइन लगने की चिंता सता रही है।

विभाग के अधिकारियों का कहना है कि एस्सेल से पूरा डाटा लेने में अभी एक सप्ताह का वक्त और लगेगा। 20 अगस्त के बाद ही उपभोक्ताओ को बिजली बिल मिल पाएगा। मुजफ्फरपुर अधीक्षण अभियंता रीतेश कुमार का कहना है कि ऑनलाइन बिल जनरेट करने की कार्रवाई तेजी से चल रही है। इसमें उपभोक्ताओं को भुगतान की सुविधा दी जाएगी। इसमें 15 दिनों का समय दिया जाएगा। इस अवधि में अगर वे भुगतान नहीं करते हैं, तब उनको लेट फाइन लगेगा।

कई जगहों पर रहा ब्रेक डाउन

एनबीपीडीसीएल के बिजली व्यवस्था संभालने के बाद लोगों में 24 घटे निर्बाध बिजली मिलने की उम्मीद जगी थी। नियमित व समय पर सही बिल मिलेगा। लेकिन, विभाग को लोगों की आकाक्षा को पूरा करने में अभी समय लगेगा। मटिहानी में ब्रेक डाउन से कई घंटे बिजली गुल रही। साथ ही जारंग के बोआरीडीह व बड़का गांव में लो वोल्टेज की समस्या से उपभोक्ता परेशान हैं।

मिस्कॉट में 10 एमवीए का ट्रासंफॉर्मर

शहर के भिखनपुरा, खबड़ा, बेला, चंदवारा, मिस्कॉट, सिकंदरपुर, नयाटोला, एमआइटी, एसकेएमसीएच सहित अन्य पावर सब स्टेशनों में लगे पावर ट्रांसफॉर्मरों को बदल कर अधिक पावर का लगाया जाएगा। फिलहाल, मिस्कॉट में 10 एमवीए का पावर ट्रांसफॉर्मर लगाने का काम शुरू कर दिया गया है। इससे वोल्टेज की समस्या दूर होगी।

शहरी क्षेत्र में मात्र चार काउंटर

एस्सेल के शहरी क्षेत्र में दर्जनों काउंटर खुले थे। सुबह नौ से शाम छह बजे तक बिल जमा करने सहित अन्य कार्य होते थे। सुबह नौ से शाम छह बजे तक सुविधा दी गई थी। अब उन जगहों पर विभाग की ओर से शहर में भगवानपुर, माड़ीपुर, रामदयालु व तिलक मैदान रोड में मात्र एक-एक काउंटर ही खोला गया है, वह भी सुबह दस से दो बजे तक ही चलता है। ग्रामीण क्षेत्रों के सभी पावर सब स्टेशनों एवं प्रखंडों में सारी सुविधाएं बंद हैं। इससे लोगों को भारी असुविधा हो रही है।

हर घर बिजली देने का कैंप शनिवार से

जिले में अधूरे पड़े हर घर बिजली, ग्राम स्वराज सौभाग्य योजना का कार्य शनिवार से शुरू होगा। गांव-गांव में कैंप लगाकर बिजली से वंचित इच्छुक एपीएल-बीपीएल लोगों को बिजली दी जाएगी। गुरुवार को रामदयालु स्थित कार्यपालक अभियंता पूर्वी के कार्यालय में सहायक अभियंताओं और विभिन्न कंपनियों, गोदरेज, टेक्नो फैब, लेजर पावर आदि के इंजीनियरों के साथ बैठक कर रणनीति तैयार की गई।

Input : Jagran

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *