SSP हरप्रीत कौर के Facebook का जवाब पप्‍पू यादव ने Whatsapp से दिया, वायरल है

मुजफ्फरपुर की एसएसपी हरप्रीत कौर बनाम मधेपुरा के सांसद पप्‍पू यादव के बीच का विवाद अभी ठंडा नहीं पड़ा है. पिछले दिनों कोई दो साल बाद फेसबुक पर आकर एसएसपी हरप्रीत कौर ने पप्‍पू यादव के जानलेवा हमले के दावों को खंडित करने के लिए लंबा पोस्‍ट लिखा था. पप्‍पू के नारी सम्‍मान की लड़ाई पर भी सवाल उठाए थे. अब व्‍हाट्सएप के कई ग्रुपों में एक मेसेज वायरल हो रहा है. कहा जा रहा है, सांसद पप्‍पू यादव ने हरप्रीत कौर को भेजा है.

लाइव सिटीज से बातचीत में पप्‍पू यादव ने एसएसपी हरप्रीत कौर को व्‍हाट्सण्‍प भेजने की बात स्‍वीकारी है. बातचीत में वे कहते हैं कि मेरी लड़ाई बड़ी है. मैं मुजफ्फरपुर की एसएसपी हरप्रीत कौर से व्‍यक्तिगत रुप से थोड़े न लड़ रहा हूं. लड़ाई तो रावण और कंस से है. आज के सिस्‍टम से है. सिस्‍टम की हिस्‍सा एसएसपी हैं, इसलिए मैं लड़ता हूं.

पटना में प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते सांसद पप्पू यादव.

पप्‍पू कहते हैं – हरप्रीत कौर को व्‍यक्तिगत तौर पर मेरी बातों को लेने की जरुरत नहीं है. उन्‍हें निजी तौर पर आहत करने का इरादा न तो कल था औ न आज ही है. लेकिन, सिस्‍टम के खिलाफ लड़ाई बंद नहीं कर सकता. अब तो दूसरे चरण की पदयात्रा भी 14 सितंबर को मुजफ्फरपुर से ही शुरु होने जा रही है.

पप्‍पू यादव का जो व्‍हाट्सएप मेसेज विभिन्‍न ग्रुपों में चल रहा है, उसमें कहा जा रहा है कि हमला न होने की बात साबित करने को एसएसपी दूसरी जगह का वीडियो दिखा रहीं हैं. संदेश में लिखा गया है कि आप सीरियस नहीं थीं. मैं सांसद हूं. इमरजेंसी मेसेजेज मैं भेजता रहा, लेकिन जवाब आया कि क्‍या हो रहा है, मेसेज कर दीजिए. यह ठीक बात नहीं है. वे दो घंटे कितने भयावह थे, सिर्फ हम और हमारे लोग जानते हैं. मां-बहन की ऐसी गालियां पहले कभी नहीं सुनी थी.

वायरल मेसेज में पप्‍पू कह रहे हैं कि हमले के बाद मैंने एफआईआर क्‍यों नहीं किया, सवाल पूछा जा रहा है. पहले भागता और फिर घायल साथियों का जाकर इलाज कराता कि थाना जाता. और यह सबों को पता था कि उस दिन ही मधुबनी से पदयात्रा शुरु होनी थी. वे फिर दोहरा रहे हैं कि उन्‍हें न जाने के रास्‍ते में और न वापसी के रास्‍ते में मुजफ्फरपुर पुलिस की सुरक्षा मिली थी, जबकि इसके लिए उनके कार्यालय से प्रॉपर जानकारी दी गई थी.

Input:Live Cities

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *