खगड़िया में गुरुवार को एक विवाहिता ने आत्महत्या कर लिया। घटना जिले के चित्रगुप्त नगर मोहल्ले की है। मृतका की पहचान राजस्थान बाड़ा निवासी अनिल कुमार की 28 वर्षीय पत्नी भारती कुमारी के रूप में हुई है। वह पिछले 4 माह से चित्रगुप्त नगर स्थित अपने मायके में रह रही थी। परिजनों के अनुसार, भारती सांवली थी और उसके बेटे का रंग गोरा है। भारती का पति इसी बात पर उसे ताना (कि बच्चा उनका नहीं है) मारता था।

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

मृतका के भाई कृष्ण नंदन कुमार और पिता जनार्दन मिस्त्री ने बताया कि बुधवार रात विवाहिता सोने के लिए अपने कमरे में गई थी। सुबह जब नहीं निकली तो परिजनों ने उसके रूम में जाकर देखा, जहां वह छत के रॉड में दुपट्टे से लटकी मिली। इधर, घटना की जानकारी पर चित्रगुप्त नगर थाना पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। जहां शव का पोस्टमार्टम होने के बाद उसे परिजनों को सौंप दिया गया।

अस्पताल में शव के पास मौजूद परिजन।

मृतका के भाई कृष्ण नंदन कुमार ने बताया, उनकी बहन अपने पति के साथ राजस्थान में रहती थी, जहां उसके पति प्राइवेट जॉब करते हैं। भाई ने बताया कि उनकी बहन ने एक माह पूर्व बीएड की परीक्षा में सफल हुई थी। पति से अनबन के कारण वह राजस्थान से मायके आई थी। उसका एक 2 साल का बेटा भी है।

clat

मायके वालों ने बताया भारती सांवले रंग की थी और उसका बेटा गोरा रंग का है। घटना के दो दिन पहले बच्चे और मां के रंग को लेकर पति-पत्नी में झगड़ा हुआ था। पति बच्चे के गोरे होने और पत्नी के सांवली होने को लेकर पत्नी को ताना मारता था। जिसके कारण विवाहिता तनाव में थी।

इस संबंध में चित्रगुप्त नगर थानाध्यक्ष संजीव कुमार ने बताया कि मामले में मृत महिला के परिजनों द्वारा आवेदन आने के बाद पुलिस उसके अनुसार कार्रवाई करेगी।

वहीं, इस संबंध में डॉक्टर श्वेता रावत ने कहा- पति-पत्नी का रंग काला भी होता है तो भी बच्चा गोरा हो सकता है। बच्चे के रंग का निर्धारण मेलानिन हार्मोन से होता है। इस हार्मोन से स्किन बनती है, इसकी कमी से ही रंग पर असर होता है। बच्चा के बारे में मां कैसा सोचती है, इसपर भी निर्भर होता है। पति-पत्नी का विश्वास और डीएनए ही इसका निर्धारण कर सकता है। अधिकांश ऐसे मामलों पिता की शंका या मन का भ्रम होता है।

Input : Dainik Bhaskar

Previous articleहाजीपुर-सुगौली नई रेललाइन परियोजना में देरी, अभी ढाई तीन साल और लगेंगे
Next articleबिहार लॉ कॉलेज : बिहार में 17 कॉलेजों में एडमिशन पर लगी रोक को पटना हाईकोर्ट ने हटाया
पत्रकार नए ज़माने का