दुर्गा पूजा में अब कुछ ही दिन शेष हैं। पूजा को लेकर हर तरफ उत्साह है। पूजा सामग्रियों की बिक्री के लिए बाजार सज गया है। नगर के बंगाली कालोनी, कोतवाली चौक, घसियारपट्टी, बानुछापर आदि इलाके में भव्य पूजा के लिए पंडाल का निर्माण शुरू हो गया है। कोरोना संक्रमण का दर कम होने के बाद पूजा के लिए इस बार बाजार में रौनक दिख रही है। दुकानदार सजावट व अन्य पूजा सामग्रियों का दिल्ली और कोलकाता से मंगाना शुरू कर दिए है।

पूजा सामग्री विक्रेता अजय प्रसाद ने बताया कि पिछले वर्ष कोरोना की वजह से सार्वजनिक रूप से पूजा आयोजित नहीं होने के कारण व्यवसाय काफी मंदा रहा। लेकिन इस बार पूजा को लेकर लोगों में उत्साह है। जिससे अच्छी बिक्री की उम्मीद है। सजावट और पूजा सामग्रियों को बाहर से मंगा लिया गया है। रोहित वर्णवाल ने बताया कि शहर में कई जगह पूजा पंडाल बन रहा है। पूजा के अवसर पर बाजार में रौनक रहने की उम्मीद है। दुर्गा पूजा में होता है करोड़ों का व्यवसाय

मीना बाजार के व्यवसायी सुजीत वर्णवाल ने बताया कि दुर्गा पूजा के अवसर पर जिले में करोड़ों का व्यवसाय होता है। हालांकि कोरोना के कारण पिछले वर्ष व्यवसाय काफी मंदा रहा। लेकिन इस साल ऐसी स्थिति नहीं है। मार्केट में सजावट की सामग्रियों का निर्माण हो रहा है। चुनरी आदि बनना शुरू हो गया है। उन्होंने बताया कि इस व्यवसाय से शहर व ग्रामीण इलाकों के कई परिवार के लोग जुड़े हैं। बंगाली कालोनी में संध्या आरती के लिए विशेष प्रबंध

नगर के बंगाली कॉलोनी में प्रतिवर्ष भव्य पूजा होती है। नवयुवक समाज कल्याण पूजा समिति बेलबाग बंगाली कॉलोनी के अध्यक्ष आलोक कुमार बनिक ने बताया कि इस साल पूजा का 49 वां वर्ष है। मूर्ति निर्माण के लिए मोतिहारी के कलाकारों को बुलाया गया है। उन्होंने बताया कि इस साल संध्या आरती यहां आकर्षण का केंद्र रहेगा। संध्या आरती के लिए कोलकाता से 6 लोगों का ग्रुप बेतिया आने वाला हैं। जो पूजा के दौरान संध्या आरती करेंगे। पूजा समिति के अध्यक्ष ने बताया कि इस वर्ष पूजा पर करीब 5 लाख रुपये खर्च की उम्मीद है।

Source: Dainik Jagran

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

Previous articleबिहार पंचायत चुनाव: पहले चरण की मतगणना आज, 151 पंचायतों में बन जाएगी गांव की सरकार
Next articleमुजफ्फरपुर: कृषि कानूनों के खिलाफ भारत बंद कल