सकरी-निर्मली व झंझारपुर-लौकहा बाजार रेलखंड पर तमुरिया-निर्मली के बीच 22 किमी व सहरसा-फारबिसगंज रेलखंड पर ललितग्राम-फारबिसगंज के बीच 29 किमी बड़ी रेल लाइन बिछाने का काम इस साल पूरा किए जाने की संभावना है।

इन दोनों रेलखंडों पर आमान परिवर्तन पर लगभग 1471 करोड़ रुपये खर्च होंगे। फारबिसगंज तक रेल कनेक्टिविटी होने के बाद जोगबनी, कटिहार व गुवाहाटी से मिथिला का सीधा रेल संपर्क होगा। झंझारपुर, निर्मली रूट की ट्रेन कोसी रेल महासेतु, सरायगढ़ व राघोपुर होकर फारबिसगंज तक जाएगी।

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

पूर्वी-मध्य रेल के जीएम अनुपम शर्मा ने निर्धारित समय से इस काम को पूरा करने का निर्देश दिया है। उन्होंने प्रोजेक्ट से जुड़े अधिकारियों को नयी तकनीक का प्रयोग करते हुए समय से काम पूरा करने की बात कही है।

सकरी–निर्मली तथा झंझारपुर-लौकहा बाजार लगभग 94 किलोमीटर व सहरसा-फारबिसगंज 111 किमी में कुल 112 किमी काम पूरा हो चुका है. सकरी-मंडन मिश्र हॉल्ट (11 किमी), मंडन मिश्र हॉल्ट-झंझारपुर (09 किमी), झंझारपुर-तमुरिया (09 किमी) का कार्य पूरा हो चुका है।

clat

111 किलोमीटर लंबे सहरसा-फारबिसगंज परियोजना के अंतर्गत सहरसा-गढ़बरूआरी (16 किमी), गढ़बरूआरी-सुपौल (11 किमी), सुपौल-सरायगढ़ (25 किमी), सरायगढ़-राघोपुर (11 किमी) व राघोपुर-ललितग्राम (20 किमी) के बीच कार्य पूरा कर लिया गया है। परियोजना के अन्य भाग में तेजी से काम चल रहा है।

Previous articleबिहार लॉ कॉलेज : बिहार में 17 कॉलेजों में एडमिशन पर लगी रोक को पटना हाईकोर्ट ने हटाया
Next articleमुजफ्फरपुर : होमी भाभा कैंसर अस्पताल एवं अनुसंधान केंद्र में सर्जरी से निकाला 3.8 किलो का बड़ा ट्यूमर