पटना के जिम ट्रेनर गोलीकांड को कम से कम प्यार तो बिल्कुल नहीं कहा जाएगा। यह पूरी तरह सेक्स, धोखा और पागलपंती की कहानी है। जिसमें दोनों एक-दूसरे से पीछा छुड़ाना चाहते थे। मगर छोड़ना नहीं चाह रहे थे। दोनों के परिवारवालों को रिश्तों के बारे में जानकारी थी। दोनों पहले से शादीशुदा थे। अंजाम पता था, फिर जुदा होना नहीं चाहते थे।

जिम ट्रेनर विक्रम सिंह राजपूत को गोली मारने के मामले में पटना के मशहूर फिजियोथेरेपिस्ट राजीव कुमार सिंह और उनकी पत्नी खुशबू सिंह को जेल भेज दिया गया। विक्रम सिंह ने खुशबू पर गोली मरवाने का इल्जाम लगाया था। दोनों की ‘नजदीकी’ वाली तस्वीर भी सामने आ गई है। विक्रम ने दावा किया है कि उसे जान से मारने की कोशिश खुशबू सिंह और उनके पति फिजियोथेरेपिस्ट डॉक्टर राजीव सिंह ने की।

जांच में पटना पुलिस को पता चला कि डॉ राजीव कुमार सिंह ने एक कुख्यात अपराधी को कॉन्टैक्ट दिया था। विक्रम को जान से मारने के लिए ढाई लाख रुपए में सुपारी दी गई थी। फिर सुपारी किलर ने बेगूसराय के रहने वाले अमित नाम के एक अपराधी को पेटी कॉन्ट्रैक्ट दे दिया। वो पेटी कॉन्ट्रैक्ट किलर कदमकुआं में किराए के मकान में रहता था। 18 सितंबर को कॉन्ट्रैक्ट किलरों ने कदमकुआं बुद्धमूर्ति के पास जिम ट्रेनर विक्रम को पांच गोलियां मारी थी।

पुलिस के मुताबिक पेटी कॉन्ट्रैक्ट किलर अमित ने अपने दोस्त सरफराज, रोहित और दो साथियों का विक्रम को गोली मारने के लिए इस्तेमाल किया। हत्या करने के उद्देश्य से 18 सितंबर को उसके ऊपर सुबह-सुबह गोलियां बरसाई गई। पुलिस की जांच में पता चला कि खुशबू ने साजिश रचने के लिए पांच साल पुराने दोस्त मिहिर का सहारा लिया। उसी ने कांट्रैक्ट किलर तक पहुंचाया था। खुशबू सिंह, उसके पति और फिजियोथेरेपिस्ट डॉ. राजीव सिंह, मिहिर सिंह (नासरीगंज, दानापुर) के साथ सुपारी किलर अमन कुमार (वारिसनगर, समस्तीपुर), शमशाद (चेरिया बरियारपुर, बेगूसराय) और आर्यन उर्फ रोहित सिंह (सोनपुर, सारण) को गिरफ्तार किया गया। इनके पास से दो पिस्तौल, एक मैग्जीन और आठ गोलियां बरामद की गई।

जिम ट्रेनर विक्रम सिंह राजपूत ने पुलिस को बताया कि वो डॉक्टर राजीव सिंह को जिम सिखाने जाता था। वहां मैम से बातचीत शुरू हो गई। मुझे कुछ ठीक नहीं लगा तो कुछ समय बाद ही उनके पास से हटना चाहता था। छोड़ना चाहा तो मुझे वो ब्लैकमेल करने लगी। कभी सुसाइड कर लेंगे तो कभी कुछ और। धीरे-धीरे वहां से हटते चला गया। विक्रम ने बताया कि खुशबू सिंह मेरे साथ जबर्दस्ती रिलेशन में रहना चाहती थी। मैं ऐसा नहीं चाहता था। मुझे ब्लैकमेल किया गया। उन्होंने कहा कि घर पर जाकर हंगामा कर देंगे। डर के कारण हम उनके साथ रहे। मेरे जिम में आकर एक-एक महीना बैठी रहती थीं। मैंने राजीव सर को दो बार फोन करके बताया। उनको कहा कि सर मैम मुझे परेशान करती हैं। मगर उन्होंने कहा कि सबूत लेकर आओ तो फिर देखते हैं।

जिम ट्रेनर की जब्त मोबाइल से खुलासा हुआ कि खुशबू और विक्रम के बीच इस साल के जनवरी से लेकर अबतक 1100 बार बात हुई है। दोनों के बीच लेट नाइट में भी बात होती थी। ज्यादातर कॉल 30-40 मिनट के थे। पुलिस को सबूत मिले हैं कि 18 अप्रैल को पहली बार डॉक्टर राजीव ने कॉल कर विक्रम से सीधे तौर पर बात की थी। इसी बातचीत में जान से मारने की धमकी दी गई थी।

Source: Nbt Hindi

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

Previous articleशहरों की तरह जल्द रोशन होंगे गांव, 15 दिसंबर के बाद लगेंगी स्ट्रीट लाइट्स, खेल के मैदान में भी लगेंगे बल्ब
Next articleपंचायत चुनाव: इन चार जिलों में महिलाओं ने पुरुषों को पछाड़ा, ओवरऑल वोटिंग में यह जिला रहा टॉप