न्यूजीलैंड की टीम पाकिस्तान दौरे पर आई थी 3 वनडे और 5 T20 मुकाबले खेलने. लेकिन सुरक्षा वजहों से वो ये दौरा बीच में ही छोड़कर चली गई. इस घटना के बाद पाकिस्तान की फजीहत पूरी दुनिया में हुई. और, अब वो जो कर रहा है उस पर खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे वाली कहावत बिल्कुल सटीक बैठ रही है. वहां के क्रिकेट दिग्गज T20 वर्ल्ड कप में न्यूजीलैंड को देख लेने की बात कह रहे हैं तो राजनीति के गलियारे में बैठे लोगों का बयान और भी ज्यादा हास्यास्पद है. अब पाकिस्तान के सूचना मंत्री फवाद चौधरी को ही ले लीजिए. उन्होंने पाक-न्यूजीलैंड सीरीज रद्द होने की जो वजह बताई है, उसके बाद तो न सिर्फ सोशल मीडिया पर पाकिस्तान की और किरकिरी हुई बल्कि ट्विटर पर ओम प्रकाश मिश्रा भी ट्रेंड करने लगा.

पाकिस्तान के सूचना मंत्री ने प्रेस कॉन्फ्रेंस लगाकर उसमें सीरीज रद्द होने के पीछे भारत का हाथ बताया. उनके मुताबिक, भारत से न्यूजीलैंड को धमकी भरे ईमेल भेजे गए, जिसके चलते उन्हें पाकिस्तान का दौरा रद्द करना पड़ा. फवाद चौधरी के अनुसार ये धमकी भरा ईमेल भेजने के लिए जिस डिवाइस का इस्तेमाल किया गया था, उसके मालिक ओम प्रकाश मिश्रा थे, जो मुंबई में रहते हैं. अब भई पाकिस्तान के मंत्री का इतना कहना था कि सोशल मीडिया पर मीम्स की बाढ़ सी आ गई. पाकिस्तान की तो इज्जत उछली ही साथ ही ओम प्रकाश मिश्रा भी सुर्खियों में आ गए.

ये ओम प्रकाश मिश्रा हैं कौन, जिनका जिक्र पाकिस्तान के मंत्री ने अपने बयान में किया है, अब जरा वो भी जान लीजिए. दरअसल, वो लड़का एक रैपर है, जिसने साल 2017 में ‘बोल ना आंटी आऊं क्या, घंटी मैं बजाऊं क्या’ गाकर सोशल मीडिया में खूब सुर्खिया बटोरी थीं.

इधर पाकिस्तानी मंत्री की ओर से ओम प्रकाश मिश्रा का नाम लिए जाने के बाद सोशल मीडिया यूजर्स ये सोचकर परेशान हैं कि आखिर वो कैसे सीरीज रद्द करा सकता है. सभी अपने अपने मिजाज से इस मसले पर अब चुटकी ले रहे हैं. एक यूजर ने ओम प्रकाश मिश्रा की तुलना लोकप्रिय शो ‘पिकी ब्‍लाइंडर्स’ के माफिया से की. तो ऑस्‍ट्रेलिया के क्रिकेट पत्रकार डेनिस फ्रीडमैन ने कहा कि, ‘ पहले तो मुझे लगा कि ये लोग व्यंग्यकार हैं, फिर तुरंत ही मुझे एहसास हुआ कि वे मंत्री हैं.’

ओम प्रकाश मिश्रा की उसके बेतुके रैप को लेकर आलोचना होती रही है, जिस वजह से वो सुर्खियों में रहता था. लेकिन, इस बार उसके सुर्खियों में छाने की वजह वो खुद नहीं बल्कि पाकिस्तान है.

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

Previous articleयू.पी.एस.सी टॉपर शुभम के सफ़लता में बिहार का योगदान कितना, इसका भी हो मूल्यांकन
Next articleतेजप्रताप की छात्र जनशक्ति परिषद् का नया लोगो बांसुरी, संगठन के पैड से राजद शब्द हटाया