स्थानीय जंक्शन को विश्वस्तरीय बनाने की कवायद शुरू हो गई है। सोमवार से यह जंक्शन रेल भूमि विकास प्राधिकरण (आरएलडीए) के अधिकारियों के हवाले हो गया। 200 करोड़ की लागत से मुजफ्फरपुर जंक्शन का पुर्नविकास होगा। अब जंक्शन का कोई भी काम आरएलडीए के अधिकारियों की अनुमति के बिना नहीं होगा। इस दौरान अधिकारियों ने जंक्शन के चप्पे-चप्पे का निरीक्षण किया और यहां रेल अधिकारियों के साथ दो राउंड बैठक कर सारी बातों की जानकारी से अवगत कराया।

बैठक में दिल्ली से आए आरएलडीए के हेड पीआर ङ्क्षसह, स्टेशन डायरेक्टर मनोज कुमार, एएसटीई स्मिता कुमारी, एईएन दिलीप कुमार, एईई पीयूष कुमार,एसीएम मृत्युंजय कुमार सहित अन्य अधिकारी शामिल थे। मंगलवार को आरएलडीए के महाप्रबंधक सुनील कुमार वर्मा दिल्ली से पहुंचेंगे। सोनपुर रेल मंडल के एडीआरएम मुरली मनोहर प्रसाद के साथ बैठक करेंगे।

फुट ओवरब्रिज होगा 20 फीट चौड़ा

आरक्षण कार्यालय के समीप 20 फीट चौड़ा फुटओवर ब्रिज बन रहा है। इसके बनने के बाद आरपीएफ के समीप और जीआरपी के समीप के दोनों फुटओवर ब्रिज को तोड़कर 20-20 फीट चौड़ा बनाया जाएगा। स्केलेटर भी आरएलडीए के हिसाब से बनेगा। सभी ब्रिज के पास लगेज स्कैनर लगाया जाएगा।

Haldiram Bhujiawala, Muzaffarpur - Restaurant

बीच वाले फुटओवर के पास डिपार्चर कनकोर्स और एयर कनकोर्स बनेगा। बीच वाले से ही यात्री अपने सारे सामान के साथ प्लेटफार्म पर जाएंगे। डिपार्चर कनकोर्स और एयर कनकोर्स के पास यात्रियों के बैठने की भी सुविधा रहेगी।

(मुजफ्फरपुर नाउ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

hondwing in Muzaffarpur

Previous articleअब समस्तीपुर में जहरीली शराब की कहर! युवक की मौत, चार की हालत गंभीर
Next articleमुजफ्फरपुर समेत उत्तर बिहार में चार-पांच दिसंबर को बूंदाबांदी की संभावना