हाजीपुर-सुगौली रेल परियोजना के द्वितिय फेज में वैशाली से साहेबगंज तक रेल परिचालन शुरू होने में ढाई से तीन साल का वक़्त लग जाएगा। सब ठीक-ठाक रहा तो 2024 के अंत तक ही इस रेलखंड पर परिचालन शुरू हो जाएगा। इस रेलखंड के अधिकतर हिस्सों पर जमीनी काम हो गया है। रेलवे ने 60% काम पूरा करने का दावा किया है।

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

रेलवे अधिकारियों का कहना है कि काम तेजी से चल रहा है। कई स्थानों पर मिट्टी भराई का कार्य पूरा हो चुका है। लेकिन 40% बाकी काम पूरा करने में एक साल और लगेगा। इसके बाद लाइन बिछाने में भी एक साल का समय लगेगा। उसके बाद विद्युतीकरण, इंटरलॉकिंग, सीआरएस आदि के काम में कम से कम छह से आठ महीने का समय लगेगा। इधर, रेलवे बोर्ड से भी इस रेलखंड को जल्द पूरा कर लेने का टारगेट दिया है।

clat

पूमरे के कंस्ट्रक्शन विभाग के डिप्टी चीफ इंजीनियर ने कहा कि 2020-21 के बजट में इस रेलखंड के लिए आवंटन का प्रावधान किया गया था। लेकिन राशि आने में काफी विलंब हो गई। जून के अंतिम सप्ताह में आवंटन मिला। 15 जून के बाद बरसात शुरू हो गई। बरसात के बाद अधिकतर स्थानों पर पानी जमा होने के कारण मिट्टी कटाई नहीं हो पाई। अब पानी सूखने पर इस माह से काम शुरू हुआ है। इससे प्रोजेक्ट एक साल लेट हो गया। ऐसे में साहेबगंज तक परिचालन शुरू करने में ढाई से तीन साल का समय लग सकता है।

हाजीपुर-सुगाैली के बीच 106 रेल अंडरब्रिज का निर्माण होना है। रेलवे क्रॉसिंग बनाने के बदले रेल अंडरब्रिज बनना है। वहीं बाया नदी पर एक बड़ा ब्रिज का भी निर्माण होना है। नदी में अभी सिर्फ पिलर का ही काम किया गया है। लेकिन अभी तक अंडर पास और पहुंच पथ का भी काम शुरू नहीं हुआ है।

Previous articleअक्षय कुमार ने अपने डॉगी पर जमकर लुटाया प्यार, बोले- ‘लाखों मिले, कोई न तुम सा मिला…’
Next articleखगड़िया : गोरा बच्चा होने पर पति मारता था ताना, किया सुसाइड
पत्रकार नए ज़माने का