जेईई मेंस के रिजल्ट में इस बार परीक्षार्थियों को 12वीं के अंक का वेटेज नहीं मिलेगा। सीबीएसई ने मेंस परीक्षा के पैटर्न में इस बार बदलाव किया है। शहर के एक दर्जन से अधिक केंद्र पर जेईई मेंस की परीक्षा ली गई। उत्तर बिहार के छात्रों के लिए मुजफ्फरपुर में ही केंद्र बनाया गया था। जीडीम दर स्कूल, डीएवी बखरी, डीएवी मालीघाट समेत विभिन्न केंद्रों पर जेईई मेंस की परीक्षा शांतिपूर्ण ली गई। 9.30 से आयोजित परीक्षा के लिए परीक्षार्थी केंद्र पर आठ बजे ही पहुंच गए थे। सख्ती के साथ जांच के बाद ही परीक्षार्थियों को प्रवेश की अनुमति मिली। परीक्षा देकर निकल रहे परीक्षार्थी सत्यम, अभिषेक, मंगलम आदि ने बताया कि भौतिकी और गणित का पेपर थोड़ा टफ था। तीन घंटे की परीक्षा में कुल 90 प्रश्न पूछे गए। पूरे देश से इस साल लगभग 11 लाख परीक्षार्थी जेईई मेंस की परीक्षा दे रहे हैं। जेईई मेंस व एडवांस में पास होने के बाद ही परीक्षार्थियों को बीटेक, बीई व बैचलर इन ऑर्किटेक्चर में दाखिला मिलेगा। पहली पाली में रविवार को सभी केंद्रों पर बीटेक व बीई के लिए परीक्षा हुई वहीं दूसरी पाली में आर्किटेक्चर के लिए परीक्षा ली गई। जेईई मेंस की परीक्षा ऑफलाइन के साथ ही ऑनलाइन भी ली जा रही है। ऑनलाइन परीक्षा 15 व 16 अप्रैल को ली जाएगी।

APPLY THESE STEPS AND GET ALL UPDATES ON FACEBOOK

आईआईटी में दाखिले में टॉप 20 में आने वाले छात्रों को मिलेगी प्राथमिकता

आईआईटीयन प्रभात रंजन और प्रशांत कुंदन ने बताया कि इस बार जेईई मेंसमें 12वीं बोर्ड के अंक के वेटेज को हटा दिया गया है। पिछली बार तक 12वीं के अंक और जेईई के अंक को मिलाकर रिजल्ट निकलता था। जेईई एडवांस में चयनित होने के बाद आईआईटी में दाखिले के समय 12वीं बोर्ड के अंक का वेटेज मिलेगा। टॉप 20 में आने वाले उम्मीदवारों को आईआईटी में नामांकन में प्राथमिकता मिलेगी। रंजन ने कहा कि इस बार बैलेंसड प्रश्न पूछे गए हैं। 360 अंक की परीक्षा हुई है। एक प्रश्न के लिए चार अंक निर्धारित हैं। इसमें गलत उत्तर पर निगेटिव मार्किंग भी है।

Input : Hindustan

 

Previous articleइंटर-मैट्रिक का रिजल्ट मई के पहले सप्ताह में
Next articleबिहार पर भारी पड़ सकते हैं अगले चार दिन, तेज आंधी-पानी के हालात

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here