दुनियाभर के ‘सबसे गंदे आदमी’ के नाम से पहचाने जाने वाले ईरान के शख्स की आखिरकार मौत हो गई है. 94 साल की अमौ हाजी लगभग 60 सालों से नहीं नहाए थे.

nps-builders

Amou Haji (uncle Haji) sits in front of an open brick shack that the villagers constructed for him, on the outskirts of the village of Dezhgah in the Dehram district of the southwestern Iranian Fars province, on December 28, 2018.

द गार्डियन की खबर के अनुसार उन्होंने ईरान के देजगाह गांव में बीते रविवार को आखिरी सांस ली. ईरान न्यूज के अनुसार हाजी अकेले रहते थे और बीमार पड़ने के डर से 60 सालों से नहीं नहाए थे. हालांकि कुछ महीने पहले उसके गांव के लोगों ने उसे जबरदस्ती नहलाया था, तब हाजी की कई तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुई थीं. इसे देख लोग चकित थे कि सालों तक न नहाने का हाजी का रिकॉर्ड सच में था.

सड़क किनारे मरे जानवरों को खाते थे हाजी

हाजी ईंट की एक खुली झोपड़ी में रहते थे और अपनी युवा अवस्था में काफी बुरा समय देखने के चलते दिमाग पर प्रभाव पड़ने से वे न नहाने की जिद पर अडिग थे और बीमार पड़ने के डर से 60 सालों तक नहीं नहाए, तेहरान टाइम्स में प्रकाशित एक रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया था कि हाजी सड़क किनारे मरे जानवरों को खाते थे और जानवरों के मल से भरे पाइप से धूम्रपान करते थे.

उनका मानना ​​​​था कि साफ सफाई उन्हें बीमार कर दे. सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरों में उन्हें एक साथ कई सिगरेट पीते हुए भी दिखाया गया है। उनके अद्वितीय रिकॉर्ड के कारण, उनके जीवन का वर्णन करते हुए, 2013 में ‘द स्ट्रेंज लाइफ ऑफ अमौ हाजी’ नामक एक शॉर्ट डॉक्युमेंट्री भी बनाई गई थी.

इतनी गंदगी के बावजूद पूरी तरह फिट थे हाजी

अमौ के जीवित रहते हुए कई विशेषज्ञ ये जानने के लिए भी उनके पास आए कि उनके शरीर में कोई परजीवी तो नहीं है, लेकिन हैरानी की बात है कि उनके शरीर में कोई बीमारी नहीं निकली. जिस तरह का उनका लाइफस्‍टाइल थे. उससे कई रिसर्चर्स भी हैरान थे, क्‍योंकि उनके अनुसार भी ये बुजुर्ग पूरी तरह से फिट थे. देजगाह में रहने वाले स्‍थानीय ग्रामीण कहते हैं कि वह उनकी लाइफस्‍टाइल को देखकर काफी प्रभावित थे. क्‍योंकि वह कभी बीमार नहीं हुए थे. न ही वह किसी बैक्टेरिया की चपेट में आए.

Amou Haji (uncle Haji) is pictured on the outskirts of the village of Dezhgah in the Dehram district of the southwestern Iranian Fars province, on December 28, 2018

Source : Aaj Tak

tanishq-muzaffarpur

ramkrishna-motors-muzaffarpur

Genius-Classes

Previous articleमोकामा उपचुनाव में अनंत सिंह की पत्नी के लिए प्रचार करेंगे नीतीश-तेजस्वी और ललन सिंह
Next articleविकास के मुद्दे को ठंडे बस्ते में डाल अरविंद केजरीवाल भी वोट के लिए कर रहे धर्म की गंदी राजनीति : राजू दानवीर