बिहार बोर्ड इस बार इंटर रिजल्ट को लेकर ऐहतियात बरत रहा है। मेरिट लिस्ट में किसी प्रकार की गड़बड़ी न हो, इसलिए बोर्ड इस बार टॉप-100 छात्रों की सारे कागजातों की जांच करने की तैयारी में जुटा है। बोर्ड सूत्रों की मानें तो मेरिट लिस्ट तैयार करने के पहले टॉप-100 में शामिल छात्रों की उत्तर पुस्तिका दुबारा जांची जाएगी।

इसके अलावा सारे छात्रों के एडमिट कार्ड, उनके रजिस्ट्रेशन, परीक्षा फॉर्म भरने की प्रक्रिया भी बोर्ड देखेगा। इसके अलावा कॉलेज व स्कूल के इंफ्रास्ट्रक्चर को देखा जायेगा, जहां से छात्र ने पढ़ाई की है।

CHOTI KALYANI, CLOTHING, STORE, MUZAFFARPUR, TRIGGER

ज्ञात हो कि इंटर 2017 के टॉपर गणेश कुमार ने गलत तरीके से इंटर की परीक्षा दी और आर्ट्स टॉपर बन गया। बाद में जांच के बाद पता चला कि गणेश कुमार ने रजिस्ट्रेशन करवाये बिना ही परीक्षा फॉर्म भर दिया था। कॉलेज की जांच हुई तो पता चला कि स्कूल में संगीत की पढ़ाई भी नहीं होती है और गणेश कुमार ने संगीत में प्रायोगिक परीक्षा भी दे दी। इसी को देखते हुए बोर्ड इस बार मेरिट लिस्ट में शामिल सभी छात्रों की पूरी जांच करेगा। 12वीं की परीक्षा 22 से 28 फरवरी तक ली गई थी।

टॉप-100 में शामिल सभी छात्रों के प्रायोगिक विषय की जानकारी ली जायेगी। छात्रों ने जिन विषयों को प्रायोगिक के लिए चुना है, उसके बारे में छात्रों के ज्ञान का टेस्ट लिया जायेगा। इसके अलावा प्रायोगिक परीक्षा के दौरान छात्रों को मिले अंक की भी जांच एक्सपर्ट द्वारा करायी जायेगी।

Sigma IT Soloutions, Muzaffarpur, Bihar

‘ एडमिट कार्ड, उनके रजिस्ट्रेशन, परीक्षा फॉर्म भरने की प्रक्रिया भी बोर्ड देखेगा।

‘ जिन कॉलेजों व स्कूलों से छात्रों ने पढ़ाई की है वहां का इंफ्रास्ट्रक्चर भी देखा जायेगा।

Input : Live Hindustan

Previous articleकर्नाटक इफेक्‍ट: विधायकों के साथ राज्‍यपाल से मिलेंगे तेजस्‍वी, जदयू ने दी ये सलाह
Next articleप्रतिबंधित मांस के मुख्य आरोपित अंकित कपूर को मिली जमानत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here