आज ही के दिन गिर गई थी महागठबंधन सरकार, 1 साल पूरे होने पर तेजस्वी ने दी नीतीश को बधाई

121

बिहार के सीएम नीतीश कुमार को नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बधाई दी है. तेजस्वी यादव ने बिहार के सीएम को व्यंग भरे लहजे में कहा कि आज ही के दिन आप हमसे अलग हुए थे. आपको बधाई. मालूम हो कि बीते वर्ष 2017 में आज ही के दिन यानी 26 जुलाई को सीएम नीतीश कुमार ने महागठबंधन से अपना नाता तोड़ लिया था. इसकी वजह भ्रष्टाचार पर जीरो टोलेरेंस की नीति को बताई गई थी. बाद में बीजेपी के साथ फिर से गठबंधन कर उन्होंने बिहार में NDA की सरकार बना ली.

महागठबंधन टूटने के बाद 26 जुलाई को पूरे बिहार में सियासी उथल पुथल मच गई थी. राजद ने खूब हंगामा भी किया था. सीएम नीतीश को खूब खरी खोटी भी सुनाई गई थी. राजद राजभवन मार्च करने की भी तैयारी की थी. हालांकि बाद में ऐसा नहीं करने का फैसला राजद सुप्रीमो ने लिया था. लेकिन सीएम नीतीश पर खूब हमला किया गया. कई आरोप लगाये गए. राजद कार्यकर्ताओं ने भी जोरदार प्रदर्शन किया था. तेजस्वी यादव ने पूरे राज्य में घूम-घूम कर कई रैली की थी. और नीतीश कुमार पर हर सभा में वे खूब बरसे थे.

बता दें कि बीते वर्ष बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम और बीजेपी के सीनियर लीडर सुशील मोदी द्वारा लालू फैमिली पर ताबड़तोड़ खुलासे किये जा रहे थे. जो इस साल भी बीच-बीच में करते आ रहे हैं. लेकिन बीते वर्ष लगातार खुलासे के बाद तत्कालीन डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव पर गंभीर आरोप लगने लगे थे. जिसके बाद सीएम नीतीश ने कड़ा फैसला ले लिया था. हालांकि जदयू ने तेजस्वी यादव से अपील की थी कि लग रहे आरोपों पर अपनी स्थिति स्पष्ट करें. और अपने संपत्ति का हिसाब दे दें

लालू प्रसाद से हुई थी बातचीत
महागठबंधन टूटने को लेकर लालू प्रसाद ने कहा था कि सीएम नीतीश कुमार से टेलीफोन पर उनकी बातचीत हुई थी. लालू प्रसाद ने उन्हें गठबंधन तोड़ने से मना किया था. लेकिन नीतीश कुमार ने कहा था कि अब हमने माफ़ कीजिए हमसे नहीं होगा. हम राजभवन इस्तीफा देने जा रहे हैं.

फोन उठाना बंद कर दिया था सीएम नीतीश कुमार ने
तेजस्वी यादव ने आरोप लगाया कि महागठबंधन तोड़ने के लिए नीतीश कुमार ने पहले से ही प्लानिंग कर ली थी. तेजस्वी ने ट्विटर पर या सभा में यह भी कहना शुरू किया था कि तेजस्वी तो बहाना था असल में नीतीश कुमार को बीजेपी के साथ जाना था. तेजस्वी ने कहा था कि वे लगातार सीएम नीतीश कुमार से बात करने की कोशिश करते रहे. लेकिन वे बीमारी की बात बता कर नालंदा चले गए थे और फोन नहीं उठा रहे थे. और बाद में बीजेपी से हाथ मिला लिए थे.

महागठबंधन से नीतीश के हटते ही तेजस्वी हो गए आक्रामक
महागठबंधन से सीएम नीतीश के हटते ही तेजस्वी यादव और भी प्रखर रूप से सामने आ गए. विधानसभा में विपक्ष का नेता चुने जाने के बाद जब तेजस्वी ने भाषण दिया तो यह चर्चा का विषय बन गया. सबने कहा कि तेजस्वी में लालू प्रसाद के सारे गुण हैं. तेजस्वी ने विधानसभा में सीएम नीतीश को खूब घेरा था. उन्होंने कहा कि सीएम नीतीश कुमार कहा करते थे कि मिट्टी में मिल जाऊँगा लेकिन बीजेपी के साथ नहीं जाऊंगा. लेकिन वे आरएसएस की गोद में जा बैठे. इसके बाद से तेजस्वी कई मंचों से लगातार सीएम नीतीश कुमार पर हमलवार रहे हैं.

Input: Live Cities