शाबाश ! आवास से छात्रावास तक बेटियों ने अ’पराधियों के छुड़ाए छक्के, ऐसे बहादुर बनेंगी तभी बचेंगी और बढ़ेंगी

98

यूं तो समाज और सरकार के स्तर पर महिलाओं की सु’रक्षा और उनके विकास के नित हजार दावे किए जाते हैं लेकिन, सच्चाई किसी से भी छुपी नहीं है। हैदराबाद, बक्सर और समस्तीपुर की घ’टनाएं वास्तविक स्थिति को बयां करने के लिए काफी हैं। निराशा के इस माहौल में दरभंगा और सीतामढ़ी की बेटियां भी हैं  जो समाज के दुशमनों के दांत खट्टे कर रहीं। ये उनके किए की स’जा देने के लिए पुलिस के आने या गांववालों के जुटने का इंतजार नहीं करतीं।

अश्लील हरकत करने पर पिटाई

पहली घटना दरभंगा की है। यहां के ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय परसिर में बुधवार को छेड़ख़ानी करने वाले एक अधेड़ की छात्राओं ने पकड़कर धुनाई कर दी। इसके बाद उसे पुलिस के हवाले कर दिया। बताया जाता है कि आरोपित बेलागंज मोहल्ला का रहने वाला है। वह गर्ल्स हॉस्टल के पास खड़ा होकर अश्लील हरकत कर रहा था। यह देख हॉस्टल आने-जाने वाली छात्राएं आक्रोशित हो गईं। सभी ने मिलकर उसे मजा चखाने का फैसला किया। फिर क्या था, एकजुट हुईं और उसको घेरकर हमला बोल दिया।

एसएसपी ने लिया संज्ञान

आरोपित जबतक कुछ समझ पाता तबतक उसकी लात घूसों से पिटाई शुरू कर दी। इसके बाद पुलिस को इसकी सूचना दी गई। विश्वविद्यालय को भी पीडि़ता ने सूचना दी। लेकिन, कोई कार्रवाई नहीं की गई। इस कारण पुलिस ने आरोपित को थाने से ही छोड़ दिया। लेकिन, छात्राओं के आक्रोश और मारपीट का वीडियो वायरल होने के बाद एसएसपी बाबू राम ने मामले का संज्ञान लिया है। उन्होंने पूरे मामले की जांच के आदेश दिए है।

सीतामढ़ी में डकैतों से भिड़ीं खुशबू

सीतामढ़ी के कन्हौली थाना क्षेत्र स्थित रमनगरा रसलपुर गांव में मंगलवार की रात सशस्त्र डकैतों ने शिक्षक रामनरेश ठाकुर के घर पर धावा बोल नकदी और जेवरात समेत तीन लाख रुपये मूल्य की संपत्ति लूट ली। शिक्षक और उनकी पत्नी सह शिक्षिका रेणु देवी की डकैतों ने पिटाई की। हालांकि, इस दौरान शिक्षक पुत्री खुशबू मर्दानी बन कर डकैतों से भिड़ गई।

बदमाशों ने मारी गोली

वह अपने माता-पिता को बचाने के लिए डकैतों से बीस मिनट तक संघर्ष करती रहीं। इस दौरान वह डकैतों का नकाब हटा कर उन्हें पहचाने में सफल हो गई। यह बात दीगर है कि डकैत गोली मार खुशबू को जख्मी कर लूट की वारदात को अंजाम देने में सफल रहे। अभी उनका इलाज चल रहा। थानाध्यक्ष राजकुमार गौतम ने बताया कि मामले की जांच जारी है।एलएनएमयू की छात्राओं और सीतामढ़ी की खुशबू जैस बेटियों से आज की बेटियों को बहुत कुछ सबक हासिल करने की जरूरत है। बहादुर बनकर ही बचा और आगे बढ़ा जा सकता है। जुल्म सहते रहने से तो कतर्इ नहीं।