हेलमेट नहीं पहनने से चली गई 2700 जानें, जो बचे वो आज विकलांग हैं

57

सड़क हादसों में मौत की बड़ी वजह हेलमेट नहीं पहनना है। बाइक या स्कूटी चलाते वक्त हेलमेट नहीं पहनने के चलते सबसे ज्यादा मौतें होती हैं। पिछले साल राज्य में सड़क हादसों में करीब 6000 लोगों की जानें गईं। इनमें 2700 मौतों की वजह हेलमेट नहीं होना था। यही नहीं हेलमेट नहीं होने के चलते सड़क हादसे में 3000 लोग बच तो गए पर स्थायी रूप से वे विकलांग हो गए।

सड़क दुर्घटना से होने वाली मौतों में करीब 40 फीसदी की वजह बिना हेलमेट पहने बाइक चलाना है। राज्यभर में पिछले साल लगभग 9600 सड़क दुर्घटनाओं में करीब 6000 लोगों की मौत और 6600 से अधिक लोग घायल हुए हैं। परिवहन विभाग के सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि आंकड़ों से पता चलता है कि पूरे बिहार में सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों में सबसे अधिक संख्या हेलमेट नहीं पहनने वालों की है। उन्होंने कहा कि दोपहिया वाहन चालक हेलमेट जरूर पहनें। बिहार में सड़क दुर्घटनाओं में रोजाना करीब 16 लोगों की मौत व 18 घायल हो रहे हैं।

 

काउंसिलिंग करेगा परिवहन विभाग 

परिवहन सचिव ने बताया कि हेलमेट नहीं पहनने वाले दोपहिया चालकों के परिवार को पत्र भेजा जाएगा। पत्र में सड़क सुरक्षा नियमों का पालन करने की अपील की जाएगी। साथ ही नियमों का उल्लंघन करने वाले को ट्रैफिक एजुकेशन सेंटर में बुलाकर दो घंटे की ट्रेनिंग दी जाएगी। वहीं काउंसिलिंग भी की जाएगी। ऑडियो-वीडियो के माध्यम से प्रशक्षिण दिया जाएगा। आने वाले दिनों में यह व्यवस्था अनिवार्य रूप से लागू की जाएगी।

Input : Hindustan