इंडिगो के स्टेशन मैनेजर रूपेश हत्याकांड की समीक्षा करने के लिए शनिवार को अचानक एसएसपी कार्यालय पहुंचे डीजीपी एसके सिंघल ने पत्रकारों से कहा कि आपलोग बिहार में बढ़ते अपराध की बात करते हैं लेकिन डेटा नहीं देते हैं। मैं आपको डेटा दे रहा हूं। आधी-अधूरी बात नहीं करनी चाहिए। मैं आपको देश का सबसे अच्छा डेटा दे रहा हूं। प्रोफेशनल तरीके से बनाया हुआ।

हमने साल 2018, 2019 और 2020 के डेटा का विश्लेषण किया है। कहीं अपराध बढ़ेगा तब तो कहूंगा कि अपराध बढ़ा है। हां, 2019 में बिहार में अपराध बढ़ा है। उसकी बात क्यों नहीं करते आपलोग। अधूरी बात कह कर असत्य को सत्य नहीं किया जा सकता। साल 2019 की भी बात कीजिए। जो बढ़ते अपराध की बात करते हैं, उन्हें कारण भी बताना चाहिए। जिन्हें लगता है कि अपराध बढ़ा है, वे डेटा के साथ हमारे पास आएं। 13 करोड़ की आबादी है हमारे राज्य की पर अपराध पर कार्रवाई पूरे देश की तुलना में सबसे अच्छी है।

रूपेश हत्याकांड जटिल लेकिन जांच सही दिशा में
रूपेश की हत्या के चौथे दिन डीजीपी पूरे मामले की समीक्षा करने एसएसपी ऑफिस पहुंचे। समीक्षा बैठक में आईजी सेंट्रल रेंज, एसएसपी सहित सभी सिटी एसपी मौजूद रहे। बैठक के बाद डीजीपी ने कहा- रूपेश की हत्या अति संवेदनशील और जटिल मामला है। यह पूरी तरह कांट्रैक्ट किलरों का काम है। कई टीम लगी हुई है। हमारी जांच सही दिशा में चल रही है।