सामाजिक सुरक्षा निदेशक दयानिधान पांडेय ने कहा कि ज्योति मजबूत इरादा और हौसला दिखाते हुए अपने बीमार पिता को साइकिल से लेकर घर पहुंची। इस सराहनीय कार्य के लिए ही उसे समाज कल्याण विभाग ने ब्रांड एम्बेसडर बनाया है। श्री पांडेय ने शुक्रवार को ज्योति को इस उपलब्धि के लिए सम्मानित भी किया। सम्मान के रूप में उसे 50 हजार का चेक के साथ टैब और ट्रैक शूट दिया गया।

उन्होंने कहा कि आज के युवाओं को ज्योति से विपरीत परिस्थितियों में हार नहीं मानने, साहस के साथ अपनी मंजिल प्राप्त करने की सीख लेनी चाहिए। किसी भी तरह का नशा स्वयं एवं परिवार को बर्बाद कर देता है। इस कार्यक्रम के माध्यम से किसी भी तरह के ड्रग्स का सेवन न करने का प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। ज्योति के ब्रांड अम्बेसडर बनने से प्रचार-प्रसार को और गति मिलेगी।