बिहार चुनाव में अब नहीं फैला सकते फेक न्यूज! इलेक्शन कमीशन करेगी कार्रवाई, जेल जाना होगा

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) को निष्पक्ष और पारदर्शिता लाने के लिए चुनाव आयोग (Election Commission) ने बड़ी तैयारी की है. चुनाव के दौरान अब कोई सोशल मीडिया (Social media) पर अगर भ्रामक या गलत जानकारी फैलाता है तो आयोग कड़ी करवाई करेगा. दरअसल गलत और झूठी खबरों के जरिये लोगों को भ्रमित कर चुनाव की निष्पक्षता भंग करने के मामले को चुनाव आयोग ने गम्भीरता से लिया है. चुनाव आयोग पहली बार सोशल मीडिया पर गलत खबरों को फैलाने से रोकने के लिए फैक्ट चेक करेगा. आयोग सोशल मीडिया पर फैलायी गई झूठी खबरों का फैक्ट चेक कर किला प्रशासन के वेबसाइट पर डाल देगी.

मिली जानकारी के अनुसार भ्रामक और झूठी खबरों को रोकने के लिए फैक्ट चेक के लिंक की जानकारी सभी जिलों तक पहुंचा दी गई है. अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी गोपाल मीणा ने जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि आयोग के जरिये दिए गए फैक्ट चेक लिंक को जिला प्रशासन के वेबसाइट पर अपलोड कर दे.

जब भी कोई नेता या उम्मीदवार सोशल मीडिया पर कोई भी खबर फैलाएगा तो उसे तत्काल फैक्ट चेक किया जाएगा. अगर खबर गलत या झूठी होगी तो फैक्ट चेक कर तत्काल इसकी जानकरी दी जाएगी. जिला प्रशासन अपने फेसबुक, ट्विटर या वेबसाइट पर इसकी जानकारी देगा. अब अगर किसी मतदाता को कोई जानकारी चाहिये तो वह जिला प्रशासन के वेबसाइट पर फैक्ट चेक लिंक के जरिये जन सकता है. खबरें गलत पाई जाने पर चुनाव आयोग सख्त कार्रवाई करेगा.