बिहार में विधानसभा चुनाव से पहले पार्टियों का एक दूसरे पर तीखा प्रहार करना शुरू हो गया है। इसी कड़ी में राजद ने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर कर बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी पर निशाना साधा है।

दरअसल, एक इंटरव्यू के दौरान सुशील मोदी यह कहते नजर आ रहे हैं कि, बिहार की एक परंपरा रही है कि बिहार के लोगों को बाहर जाकर काम करने में एक आनंद आता है, उनको अच्छा लगता है। किसी को ज्यादा कमाना हो दो जून की रोटी से अधिक कमाना हो तो बाहर जाता है।

सुशील मोदी के इस वीडियो को शेयर करते हुए आरजेडी ने निशाना साधा है, आरजेडी ने ट्विटर पर लिखा है, “बिहार के लोगों को पलायन करने में मज़ा आता है!, रोज़ी रोटी के लिए बिहारी पलायन नहीं करते!” इन मानसिक रूप से दिवालिए सज्जन की मानें तो बिहारवासियों को घर परिवार के साथ रहना काटता है! बिहारी मौज मस्ती के लिए पलायन करते हैं! और मजे के लिए ही हजारों km भूखे प्यासे गर्मी में लौट आए!

क्या इनसे आप स्थिति सुधारने की उम्मीद लगाए बैठे हैं, जो 15 साल बाद इस बेशर्मी से सच से मुकर जाएँ? “बिहार के लोगों को पलायन करने में मज़ा आता है!” ये मानसिक दिवालिए आजकल आत्मनिर्भर बनने की नसीहत दे रहे हैं! मतलब खोट इनकी सरकार में नहीं, बिहारियों में है जो आत्मनिर्भर नहीं बनते!

क्या इनसे आप स्थिति सुधारने की उम्मीद लगाए बैठे हैं, जो 15 साल बाद इस बेशर्मी से सच से मुकर जाएँ?“बिहार के लोगों को पलायन करने में मज़ा आता है!” ये मानसिक दिवालिए आजकल आत्मनिर्भर बनने की नसीहत दे रहे हैं! मतलब खोट इनकी सरकार में नहीं, बिहारियों में है जो आत्मनिर्भर नहीं बनते!

उनके इस बयान के बाद विपक्ष के नेताओं ने सुशील मोदी पर निशाना साधना शुरू कर दिया है। आरजेडी के विधायक वीरेंद्र ने सुशील कुमार मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि सुशील मोदी तो खुद बिहार के नहीं है ऐसे में वह बिहार के लोगों का दर्द कैसे समझेंगे। उन्होंने आगे कहा कि अगर सुशील मोदी चुनाव लड़ते और जनता के बीच जाते तब तो उन्हें जनता का हाल पता चलता है, पर जो पिछले दरवाजे से सदन में जा कर राजनीति करते हैं तो जनता का दर्द कैसे समझेंगे।