Home Bihar दुखद : यूक्रेन में पढ़ रहे बिहार के छात्र की दर्दनाक मौत

दुखद : यूक्रेन में पढ़ रहे बिहार के छात्र की दर्दनाक मौत

16
0
Demo image

वैशाली जिले के सहदेई बुजुर्ग प्रखंड क्षेत्र के पोहियार बुजुर्ग पंचायत के आलमपुर निवासी एक युवक के युक्रेन में नहाने के दौरान डूबने से मौत हो गई। मृतक आलमपुर निवासी डॉ. चन्द्रशेखर सिंह का 26 वर्षीय बड़ा पुत्र रौशन कुमार था। वह फाइनल ईयर में मेडिकल का छात्र था। युवक के पानी में डूबने की खबर जब युक्रेन से भारत उसके गांव आलमपुर परिजनों को मिली की घर में कोहराम मच गया।

युवक की मौत की खबर जैसे ही गांव वालों को लगी। गांव में शोक की लहर दौड़ गई। दर्जनों लोग उसके घर पर जानकारी लेने के लिए पहुंच गए। ग्रामीण और परिजनों ने बताया कि रौशन विगत तीन वर्षों से युक्रेन के कर्मील्युका 3 स्ट्रीट चेयरनीवेट्सी स्थित हॉस्टल 7 कमरा संख्या 415 में रह कर बुकोविनियन स्टेट मेडिकल यूनिवर्सिटी में मेडिकल की पढ़ाई करता था। रौशन अपने तीन अन्य साथी राजस्थान, गुजरात और दिल्ली के रहने वालों के साथ हॉस्टल के कुछ दूरी पर स्थित पहाड़ी नदी में शुक्रवार की शाम नहाने गया था। नहाने के दौरान सभी चारों युवक पानी में डूबने लगे। जिसमें तीन युवक किसी तरह पानी से बाहर निकल गए, लेकिन रौशन नहीं निकल सका और डूब गया।

Demo image

साथी को डूबते देख एक अन्य छात्र रौशन को बचाने के लिए फिर से पानी में कुदा, रौशन को बचा नहीं सका। घटना की खबर तीनों युवकों ने कॉलेज के शिक्षकों को दी। जिस पर कॉलेज के शिक्षकों ने घटना की जानकारी परिजनों को दी।

17 घंटे बाद निकाला गया शव 

उधर, जब रौशन पानी में डूब गया तो वहां की पुलिस और आपदा विभाग की टीम पानी में उसके शव की तलाश शुरू की। 17 घंटे की मशक्कत के बाद युक्रेन पुलिस ने रौशन का शव पानी से बाहर निकाला। रौशन का शव जब पानी से निकाला गया, तो इसकी जानकारी फिर परिजन को दी गई। रौशन के पिता उसका शव भारत लाने के लिए विदेश मंत्री एवं सांसद से गुहार लगा रहे हैं।

दो भाई और तीन बहनों में सबसे बड़ा था रौशन

मेडिकल का छात्र रौशन दो भाई एवं तीन बहनों में सबसे बड़ा था। उसके पिता सरकारी डॉक्टर हैं और वह सारण जिले के सबलपुर में कार्यरत हैं। छोटा भाई भी कोटा में रहकर मेडिकल की तैयारी कर रहा है। रौशन ने मैट्रिक और इंटर की पढ़ाई हाजीपुर से की थी। एमबीबीएस की तैयारी अपने देश भारत से बाहर युक्रेन में रहकर करता था। वह वर्ष  2015 में अपने मां-बाप का सपना पूरा करने के लिए युक्रेन गया था। मृत्यु की सूचना के बाद से परिवार के सभी सदस्य सदमे में हैं और गांव में मातम छाया हुआ है।

Input : Live Hindustan

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here