पटना जंक्शन के समीप मीठापुर फ्लाईओवर से महुली हाॅल्ट 4 लेन सतही/एलिवेटेड सड़क परियोजना का निर्माण एफकॉन्स करेगी। एफकॉन्स काे अनुमानित लागत (816.18 कराेड़) से 18 फीसदी कम (668.79 कराेड़) पर इसे बनाने की जिम्मेदारी मिली है। इसे पूरा करने का लक्ष्य दिसंबर 2023 है। एफकॉन्स ने ही गांधी सेतु को लोहे के सेतु में बदला है।

पटना-गया-डोभी 4 लेन हाईवे से जुड़ने वाली और पटना-गया रेललाइन के समानांतर उसके पूरब की तरफ बनने वाली दक्षिणी पटना इलाके की इस महत्वपूर्ण परियोजना की लंबाई 8.86 किमी (6.43 किमी एलिवेटेड) है। यह रोड परियोजना मीठापुर बस स्टैंड के समीप चन्द्रगुप्त प्रबंधन संस्थान के पीछे से सिपारा फ्लाईओवर (एनएच-30) तक और परसा से महुली तक जमीन पर बनेगी। वहीं सिपारा से परसा तक निर्माण एलिवेटेड होगा। स्थानीय लोगों की सुविधा के लिए सर्विस पथ का भी निर्माण किया जाएगा। सिपारा फ्लाईओवर से सिपारा गुमटी के बीच एक बड़े पुल के साथ कुल 7 पुल एवं 4 पुलिया बनेंगी।

दाे अंडर पास भी बनाए जाएंगे : गया से पटना आनेवाली गाड़ियाें को मीठापुर बस स्टैंड के पास उतारने के लिए चाणक्या विधि विश्वविद्यालय के पास और सिपारा फ्लाईओवर के नीचे अंडर पास बनेगा। इस सड़क के दोनों तरफ मीठापुर, सिपारा, एतवारपुर, कुरथौल, परसा और महुली में बसे लोगों को सीधा फायदा होगा। यह परियोजना पटना से गया, गया से बिहारशरीफ, बिहारशरीफ से बख्तियारपुर एवं बख्तियारपुर से पटना एनएच-83, एनएच-82, एनएच-31 एवं एनएच-30 से संपर्कता प्रदान करेगा। पटना से राजगीर-गया एवं गया से पटना आने में जाम से छुटकारा मिल जाएगा।