निगम में ऑटो टिपर की खरीद में घोटाला सामने आने के बाद पूर्व नगर आयुक्त रमेश प्रसाद रंजन समेत सात अभियंताओं पर कार्रवाई की तलवार लटक रही है। नगर विकास विभाग के आदेश के बाद नगर आयुक्त संजय दुबे ने पूर्व नगर आयुक्त व वर्तमान में अनुसूचित जाति-जनजाति कल्याण विभाग के अपर सचिव रमेश प्रसाद रंजन, निगम के कार्यपालक अभियंता बिंदा सिंह, पूर्व सहायक अभियंता सह वर्तमान में जल संसाधन विभाग कवेटी दरभंगा के कार्यपालक अभियंता महेंद्र सिंह, निगम के सहायक अभिंयता नंद किशोर ओझा, कनीय अभियंता मो. क्यामुद्दीन अंसारी, पूर्व कनीय अभियंता प्रमोद कुमार सिंह व भरत लाल चौधरी को नोटिस भेज जवाब तलब किया है।

नोटिस में नगर आयुक्त ने कहा है कि निगम द्वारा बीते वर्ष 50 अदद ऑटो टिपर के क्रय हेतु तत्कालीन नगर आयुक्त द्वारा ई-निविदा की कार्रवाई की गई थी जिसमें तीन निविदादाताओं द्वारा निविदा दी गई थी। एजेंसी के चयन को रमेश प्रसाद रंजन ने निविदा समिति गठित की थी। तीनों एजेंसी के वित्तीय बिड खोलने के बाद जिस एजेंसी ने 7.59 लाख का प्रस्ताव दिया था उसकी अनदेखी कर 7.65 लाख देने वाली एजेंसी का चयन किया।

विभाग के निर्देश पर नगर आयुक्त ने किया जवाब तलब, सात दिन का अल्टीमेटम, एजेंसी के चयन में अनियमितता बरतने का आरोप

 

Input : Dainik Jagran

 

 

Previous articleदरभंगा : चौक का नाम नरेंद्र मोदी रखने पर भाजपा नेता को काट डाला
Next articleपॉलीटेक्निक में नामांकन के लिए आवेदन छह तक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here