15 दिन में बढ़ गया 100 रुपये गैस की कीमत, मोदी सरकार के कारण बिगड़ गया किचन का बजट

सरकारी तेल कंपनियों ने एक ही पखवाड़े में रसोई गैस के दाम प्रति सिलेंडर 50 रुपये बढ़ दिए हैं. 15 दिनों के भीतर दूसरी बार कीमत बढ़ाई गई है. इससे रसोई गैस सिलेंडर 100 रुपये महंगा हो गया है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में गैस के दाम बढ़ने की वजह से घरेलू मार्केट में रसोई गैस के दाम बढ़ाए गए. यह पहली बार है जब रसोई गैस के दाम एक ही बार में इतने बढ़ाए गए हैं. दरअसल ग्लोबल रेट में कमी के बाद ज्यादातर लोगों की गैस सब्सिडी लगभग खत्म कर दी गई है.

इस साल की शुरुआत से रसोई गैस सिलेंडर की कीमत 197 रुपये महंगी हो चुकी है. दिल्ली में रसोई गैस सिलेंडर की कीमत 694 रुपये हो गई है. दिसंबर के पहले पखवाड़े में इसकी कीमत 644 रुपये प्रति सिलेंडर थी, जबकि 50 रुपये की बढ़ोतरी के साथ 694 रुपये हो गई है. नवंबर में इसकी कीमत 594 रुपये थी. तेल कंपनियों के अधिकारियों का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी के साथ ही घरेलू मार्केट में कीमतों में बढ़ोतरी जरूरी हो गई थी. रसोई गैस कच्चे तेल और प्राकृतिक गैस से तैयार होती है. भारत अपनी रसोई गैस की जरूरतें आयात से पूरी करता है. दरअसल पिछले कुछ वर्षों में रसोई गैस उपभोक्ताओं की संख्या में इजाफा हुआ है.

पिछले कुछ वक्त के दौरान अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें काफी घट गई थीं. लिहाजा कंज्यूमर्स सब्सिडी लगभग खत्म कर दी गई थी. पिछले साल जून में दिल्ली में सब्सिडी वाले गैस सिलेंडर की कीमत 497 रुपये थी. इसके बाद से अब तक गैस सिलेंडर की कीमतों में 197 रुपये की बढ़ोतरी हो चुकी है. जून 2019 में दिल्ली में रसोई गैस सिलेंडर पर 240 रुपये की सब्सिडी दी जा रही थी.

Previous articleबिहार में भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने वाले के ही क्षेत्र में हो रहा Corruption, अधिकारी मांग रहे घुस
Next articleबच्चों को कुछ हुआ तो कौन जिम्मेवार होगा, शिक्षा मंत्री बोले- अभी नहीं खुलेंगे बिहार के स्कूल