शहर में कीमती जमीन पर कब्जे के प्रयास में खूनी खेल का सिलसिला वर्षों से चला आ रहा है। एक के बाद एक बड़े वारदात से लोगों में दशहत का माहौल है। जमीन विवाद में दिनदहाड़े एके -47 का गरजना, गोली-बम चलना यहां आम बात हो गई है। अपहरण व हत्या तक को भूमाफिया अंजाम दे चुके हैं। अबतक सख्त कार्रवाई के साथ पुलिस का शिकंजा न कसने से भूमाफियाओं का मनोबल बढ़ा हुआ है।

जब पीड़ित पक्ष आंदोलन करते या फिर वरीय अधिकारियों के पास मामला पहुंचता तो कार्रवाई के नाम पर कुछ कोरम पूरा कर पुलिस बैठ जाती। पिछले पांच-छह वर्षों में ऐसे दर्जनों मामले जिले में सामने आये। शहर ही नहीं ग्रामीण इलाकों में भी ऐसी घटनाएं होती रही हैं। 18 सितंबर 2012 को जमीन को लेकर ही जवाहरलाल रोड स्थित आवास से नवरूना के अपहरण व हत्या जैसी वारदात सामने आयी। यह मामला आज भी सुर्खियों में हैं। लपेटे में कई सफेदपोश व रसूखदार आ चुके हैं। पांच मार्च 2013 को रंजना भादुड़ी के घर पर भी जमीन को लेकर ही गोलीबारी की गई। उनका नौकर राजेंद्र मारा गया। ऐसे ही कई हत्याएं जिले में हो चुकी हैं। जिन वारदातों ने सुर्खियां बटोरी उन पर अफसरों की नजरें रहीं, जिन घटनाओं में पीड़ितों की बोलती बंद हुई, वह पुलिस की फाइलों में दबी रह गई। गाहे-बगाहे फाइलें खुलती हैं। पीड़ितों को न्याय की टकटकी लगी है।

Muzaffarpur, Facebook,

रंजना भादुड़ी के नौकर की हत्या अब भी पहेली

एलएस कॉलेज रोड में रंजना भादुड़ी की पुश्तैनी जमीन थी। जमीन में बने मकान को लेकर कुछ विवाद चल रहा था। इसको लेकर कोर्ट में भी केस दर्ज किया गया था। रंजना ने 2012 में काजीमोहम्मदपुर थाने में भी इस मामले को लेकर केस दर्ज कराया था। पांच मार्च 2013 को अज्ञात अपराधियों ने रंजना के घर पर गोलीबारी की। उनके घर का नौकर राजेंद्र राय मारा गया। पुलिस अनुसंधान जारी है लेकिन नौकर की हत्या का रहस्य अबतक बेपर्दा नहीं हुआ है। घटना के बाद रंजना जमीन को एक राजनेता के हाथों बेच कोलकाता शिफ्ट हो गईं। उसके बाद भी लंबे अर्से तक यह घटना शहरवासियों में चर्चित रही ।

कहनानी के हत्यारों तक नहीं पहुंची पुलिस

31 मार्च 2016 को नगर थाना के साहू रोड में करोड़ों की जमीन के मालिक अशोक कहनानी की गोली मारकर हत्या कर दी गई। वह अपने स्टाफ के साथ बाइक से पुरानी गुदरी स्थित अपने आवास लौट रहे थे। इसी दौरान बाइक सवार अपराधियों ने उन्हें गोली मारी। बैरिया स्थित अस्पताल में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। उनके स्टॉफ आदित्य के बयान पर एफआईआर की गई। कहनानी ने भी घटना से दो वर्ष पूर्व जमीन बेचने को लेकर दवाब बनाने व जान से मारने की धमकी देने की शिकायत दर्ज कराई थी। जांच में भूमाफियाओं की साठगांठ से हत्या की बात सामने आयी। अबतक हत्यारों तक पुलिस नहीं पहुंच सकी है।

अबतक सामने न आया अब्दुल्ला मर्डर का सच

मिठनपुरा थाना क्षेत्र की न्यू कॉलोनी में प्रॉपर्टी डीलर मो. इवरूल उर्फ अब्दुल्ला की 27 सितंबर की रात गला रेतकर हत्या कर दी गयी। हत्या के वक्त वह अपने नवनिर्मित मकान की पहली मंजिल पर अकेले थे। घटनास्थल से करीब सौ मीटर की दूरी पर झाड़ियों से इवरूल का मोबाइल मिला। मिठनपुरा पुलिस व नगर डीएसपी ने घटना की जांच की। सूत्रों के अनुसार, इवरूल प्रॉपर्टी डीलिंग लंबे समय से कर रहे थे। आशंका जताई गई कि जमीन विवाद में ही तो उनकी हत्या कर दी गई। हालांकि पुराने विवाद व अन्य बिंदुओं पर भी छानबी की गई। हालांकि पुलिस आजतक सच तक नहीं पहुंच पायी।

Advertise, Advertisement, Muzaffarpur, Branding, Digital Media

प्रॉपर्टी डीलर दिलीप की मौत से नहीं उठा पर्दा

प्रॉपर्टी डीलर दिलीप हत्याकांड में सदर पुलिस की भूमिका संदेह के घेरे में रही थी। 25 मार्च 2017 को दिलीप गायब हुआ। परिजन ने 29 मार्च को गुमशुदगी का आवेदन सदर थाने में दिया। वरीय अधिकारी के दबाव के बाद पुलिस ने सनहा दर्ज किया। तीन अप्रैल की देर रात खखरा पुल के समीप अचेतावस्था में दिलीप मिला। इलाज के दौरान उसकी मौत अगले दिन हो गई। मृतक के भाई नवीन ओझा के बयान पर इस मामले में केस दर्ज कर जांच शुरू की गई। लगातार हीलाहवाली देख परिजनों ने पुलिस के वरीय पदाधिकारी से शिकायत की। एसएसपी के निर्देश पर नये आईओ बने। मामले की जांच ही चल रही है।

वीसी लेन में सरेआम एके 47 से भून दिये गये अतुल

मिठनपुरा थाना क्षेत्र के वीसी लेन में छह अप्रैल 2017 की सुबह बाइक सवार दो अपराधियों ने एके 47 से पावर ग्रिड के पेटी कॉन्ट्रैक्टर प्रणय कुमार उर्फ अतुल शाही को भून दिया। घर के मुख्य गेट पर ही गोलियां लगने से उनकी मौत हो गई। शुरू में इस मामले में जमीन व रंगदारी मांगने की बात सामने आयी। पूर्व में पांच लाख रंगदारी मांगने को लेकर अतुल ने मुशहरी थाने में शिकायत भी दर्ज कराई। हालांकि पुलिस ने अनुसंधान के बाद हत्या की वजह रंगदारी बताया। इसको लेकर पुलिस ने कईयों को गिरफ्तार कर जेल भेजा लेकिन कोर्ट में सुनवाई के बाद गिरफ्तार में से कई बेल पर जेल से बाहर आ गये। मामला कोर्ट में है।

Input : Hindustan

APPLY THESE STEPS AND GET ALL UPDATES ON FACEBOOK
Previous articleसदर थानेदार समेत तीन पुलिस अधिकारी लाइन हाजिर
Next articleकांटी से बच्चे का अपहरण मांगी पांच लाख फिरौती

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here