बूढ़ी गंडक नदी के किनारे स्थित शहर से सटे शेखपुर ढाब मोहल्ले में गुरुवार की शाम एक तेंदुआ पहुंचा और किसान भोला सहनी के कुत्ते की गर्दन तोड़ दी। वह कुत्ते को मक्के के खेत के पास खा रहा था, इसी दौरान शौच के लिए भोला के चाचा लालू सहनी वहां से गुजरे। उन्होंने तेंदुए को देखा और शोर मचाते हुए मौके से भागे। उन्हें देखकर तेंदुआ मक्के के खेत में चला गया।

तेंदुआ के आने की सूचना अहियापुर थाने की पुलिस और वन विभाग के अधिकारियों को दी गई। वन विभाग के रेंज अफसर पूर्वी राजेश चौधरी के नेतृत्व में एक टीम तेंदुआ पकड़ने की व्यवस्था के साथ पहुंची। दर्जनों स्थानीय लोग जुट गए। मक्के के खेत से लेकर नदी के किनारे जंगल झाड़ियों में उसे को खोजा गया, लेकिन वह नहीं दिखा।

वन विभाग की टीम ने नदी किनारे के गीली जमीन पर तेंदुए के पांव के निशाने तलाश किए। राजेश चौधरी ने बताया कि स्थानीय लोग तेंदुए जैसा वन्य प्राणी देखने की बात बता रहे हैं। जिस कुत्ते को उसने मारा है वह भी देखा गया है। लोगों को सतर्क करा दिया गया है। रात में आग जलाए रखने व घर को बंद रखने की हिदायत दी गई है। खुले में जानवरों को भी नहीं बांधने के लिए कहा गया है।

लालू ने बताया कि तेंदुआ उसे देखते ही गुर्राया, वह भोला के कुत्ते को मारकर खा रहा था। गुर्राने की आवाज आई तो उस पर नजर पड़ी। करीब तीन फिट ऊंचा रहा होगा। कुछ दूर तो चुपके से भागा उसके बाद शोर मचाया। भोला सहनी, ब्रह्मदेव सहनी, रामदेव सहनी, सकलदेव सहनी, रामबहादुर सहनी, सुरेश सहनी आदि लोगों ने बताया कि मोहल्ले में दहशत है और लोग रतजगा कर रहे हैं।

Input : Dainik Bhaskar

 

Previous articleमुजफ्फरपुर : डीएम के फैसले से लोगों में असंतोष
Next articleदिल्ली से मुज़फ़्फ़रपुर आ रही बस बाराबंकी में दुर्घटनाग्रस्त

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here