तस्वीर पताही हवाई अड्डा से सटे एनएच 102 छपरा-मुजफ्फरपुर रेवा रोड की है। इस एनएच के ऊपर से हाजीपुर बायपास निर्माणाधीन है। इस जगह पर 4 वर्ष पूर्व शुरू हुआ फ्लाईओवर आधा-अधूरा पड़ा हुआ है। इसके दोनों पिलरों पर रखे गर्डर हवा में लटक रहे हैं। बीते मंगलवार को वाराणसी कैंट में निर्माणाधीन फ्लाईओवर का गर्डर गिरने के हादसे के बाद से इस मार्ग से गुजरने वाले राहगीर भी सशंकित रहते हैं। उन्हें डर है कि कहीं अाधा-अधूरा बने इस फ्लाईओवर का गर्डर भी न गिर जाए। उधर, दैनिक भास्कर ने जब एनएचएआई के परियोजना निदेशक से इस बाबत बात की तो उन्होंने आश्वस्त किया कि फ्लाईओवर पर रखे गर्डर पूरी तरह सुरक्षित हैं। लोहे के एंकर से दोनों गर्डरों को सपोर्ट दिया गया है। वैसे उन्होंने यह भी कहा कि इंजीनियरों की टीम इसकी फिर से जांच करेगी। हालांकि, एनएचएआई की ओर से यह स्पष्ट नहीं किया गया कि यह अधूरा फ्लाईओवर कब तक पूरा होगा। बता दें कि सदातपुर से मधौल तक 17 किलोमीटर लंबे इस निर्माणाधीन बायपास में कई और फ्लाईओवर अधूरे पड़े हैं। कपरपुरा स्टेशन के पहले भी एक रेल ओवरब्रिज अधूरा है।

Pic by Gautam Chaudhary

 

परियोजना निदेशक बोले सुरक्षित हैं गर्डर वैसे टीम फिर से जांच करेगी 

 

Input : Dainik Bhaskar

Pic by Gautam Chaudhary
Previous articleमुजफ्फरपुर के आफताब समेत 200 भारतीय युवक कतर में फंसे, डेढ़ लाख रु. में एजेंट से लिया था वीजा
Next articleतीन चरणों में पीएमसीएच बनेगा वर्ल्‍ड क्लास हॉस्पिटल, ये है योजना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here