मुजफ्फरपुर : विशेष निगरानी न्यायालय व विशेष एक्साइज काेर्ट के विशेष न्यायाधीश एडीजे-14 राकेश मालवीय काे ध’मकी देने के मा’मले में बुधवार काे निलंबित CO मनाेज कुमार काे अहियापुर के शहबाजपुर से हि’रासत में लिया गया।

नगर थाने की पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि जज काे धमकी भरा पत्र भेजने वाले से मनाेज के जुड़ाव का सत्यापन किया जा रहा है। जांच में साक्ष्य पाए जाने पर गुरुवार काे न्यायिक हिरासत में जेल भेजा जाएगा, अन्यथा मुक्त किया जा सकता है। मनाेज मुशहरी में CO रह चुके हैं। जब वे हाजीपुर में बीएसएफसी के मैनेजर थे तब उन्हें निगरानी की टीम ने घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया था। उसी मामले में वे निलंबित हैं और  इनके खिलाफ विशेष न्यायालय में राकेश कुमार मालवीय सुनवाई कर रहे हैं। एडीजे राकेश मालवीय काे बीते 9 जनवरी काे पत्र भेजकर 10 लाख रुपए रंगदारी की मांग की गई थी। रंगदारी के रुपए सदर अस्पताल के गेट पर लेकर आने के बाद पत्र में दिए गए माेबाइल नंबर पर मिस्ड काॅल करने के लिए कहा गया था। रुपए नहीं देने पर काेर्ट में घुस कर 7 गाेली सीने में मार देने की धमकी दी गई थी। पत्र में अनिल भैया और पवन भैया का नाम लिखा गया था। पत्र भेजने वाले का नाम सादपुरा नीम चाैक इलाके का एके प्रसाद बताया गया था। पुलिस ने माेबाइल नंबर धारक समेत चाराें के खिलाफ FIR दर्ज कर छानबीन शुरू की थी। मनाेज कुमार काे घूसखाेरी के मामले में जेल भेजा गया था। इसके बाद से वह सस्पेंड है। विशेष निगरानी न्यायालय में इस पर मुकदमा चल रहा है। मनाेज का पुराना विवादित रिकाॅर्ड मिला। तब पुलिस अधिकारियाें ने इसे हिरासत में लेने का फैसला किया।

माेबाइल काॅल डिटेल से मनाेज कुमार तक पहुंची पुलिस टीम

सर्विलांस एक्सपर्ट ने सुरवात में माेबाइल काे फर्जी नाम-पते पर निकाले जाने की बात बताई थी। हालांकि, काॅल डिटेल में कई बार मनाेज कुमार से बातचीत के प्रमाण पुलिस काे मिले। उसके बाद मनाेज कुमार का ब्याेरा पुलिस टीम ने खंगालना शुरू किया।

एडीजे-14 काे रंगदारी के लिए धमकी दिए जाने के मामले में सस्पेंडेड CO मनाेज कुमार काे हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। रंगदारी वसूली के लिए जाे माेबाइल नंबर पत्र में लिखा गया था, उस पर मनाेज द्वारा काॅल करने का रिकाॅर्ड भी मिला है।
-राम नरेश पासवान, नगर डीएसपी।

Input : Dainik Bhaskar