माँ जानकी हॉस्पिटल में इलाज के दौरान महिला की हुई मौत, परिजनों ने जमकर किया हंगामा और तोड़फोड़

179

डॉक्टरों को भगवान का रूप माना जाता है.किसी भी तरह के बीमारी के इलाज के लिए लोग अस्पताल का दरवाजा खटखटाते है.वही कई बार डॉक्टरों के हल्की सी चूक के कारण मरीज की मौत भी हो जाती है.कुछ ऐसा ही बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में हुआ है।

क्या है मामला

बता दे कि मृतक रानी देवी को गत शनिवार सर पर गंभीर चोट लग गई थी. वही गंभीर चोट के इलाज के लिए शहर के माँ जानकी अस्पताल में भर्ती कराया गया. वही परिजनों ने बताया कि बीते रात एक इंजेक्शन देने से उनकी मृत्यु हो गई. जबकि मृतक रानी देवी के भैसुर डॉक्टर को सुई देने से मना किया था. अपितु मना करने के बावजूद भी डॉक्टर ने सुई दे दीया।

सुई लगने के बाद अचानक रानी देवी की तबियत खराब होती गई. वहीँ आज अहले सुबह मौत हो गई. मौत से गुस्साए परिजनों ने अस्पताल परिसर में जमकर तोर फोर शुरू कर दिया. साथ साथ हंगामा भी करने लगे. आनन फानन में इस घटना की जानकारी अहियापुर थाना को दिया गया. सूचना मिलते ही अहियापुर थाना मौके पर पहुच गई।

वहीं घटना स्थल पर पहुँच कर पुलिस ने आक्रोशित परिजनों को समझा बुझा कर शांत कराया.  मृतिका रानी देवी के बॉडी को पोस्टमार्टम के लिए SKMCH भेजा. आपको बता दे कि अहियापुर थानाध्यक्ष मनोज कुमार ने बताया कि महिला मरीज की मौत हो गयी है. परिजनों के द्वारा लिखित शिकायत की जा रही है. शिकायत मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी.