मुजफ्फरपुर के गिरजाघरों में प्रार्थना के लिए उमड़ी भीड़, हर तरफ गूंजा ‘Merry Christmas’

205

‘आया यीशु राजा आज जगत में आया, स्वर्ग से आया परमेश्वर हम लोगों की धरती पर नन्हा बालक बनकर…., बेतलहम के गोशाला में यीशु राजा है जन्मा…’ प्रभु यीशु के जन्म क्रिसमस के अवसर पर इसाई समुदाय के लोग उमंग व उल्लास में डूबे रहे। चर्च एवं घरों में कैरोल गीत गाकर जन्म की खुशियां मनाई गई। एक दूसरे को हैप्पी क्रिसमस-मेरी क्रिसमस कहा। मिठाई व केक खिलाई। संत फ्रांसिस असीसी, संत जोसेफ, जैक्शन मेमोरियल मेथोडिस्ट व चर्च ऑफ नार्थ इंडिया में प्रार्थना को भीड़ उमड़ी। प्रभु यीशु, माता मरियम व फादर जोसेफ की प्रतिमा के सामने मोमबत्ती जला कर प्रार्थना की। चर्च परिसर व पास में उत्सवी माहौल रहा। हर धर्म के लोग भी चर्च पहुंच कर इस दिन के उमंग में शामिल हुए। चर्च में युवाओं की भीड़ अधिक थी। वो उल्लास में डूबे थे।

संत फ्रांसिस असीसी चर्च में उमड़ी भीड़, प्रार्थना 

लेनिन चौक स्थित संत फ्रांसिस असीसी चर्च में सुबह मिस्सा पूजा शुरु हुई। बिशप काजिटन फ्रांसिस ओस्ता ने प्रभु यीशु के संदेश पर चल कर विश्व शांति की बात कही। यीशु के संदेश पर रोशनी डाली। चर्च परिसर में बना गोशाला में प्रभु यीशु के जन्म की झांकी आकर्षण का केंद्र रही। यहां सुबह से लेकर देर शाम तक भीड़ रही। युवाओं की सबसे अधिक भीड़ रही।

Photo by Shankran Jolly

संत जोसेफ चर्च में जन्म की झांकी ने किया मोहित 

कंहौली स्थित संत जोसेफ चर्च में आठ बजे मिस्सा पूजा शुरु हुई। फादर डेविड एलियस ने अनुष्ठान संपन्न कराया। उन्होंने प्रभु यीशु को शांति व क्षमा का दूत बताया। उन्होंने बाइबिल का संदेश को विश्वकल्याणकारी बताया। चर्च परिसर में बने गोशाला को देखने के लिए काफी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। लोगों ने मोमबत्ती जलाकर प्रार्थना की।

जैक्शन मेमोरियल मेथोडिस्ट चर्च में रहा उत्सवी माहौल 

गोशाला रोड स्थित जैक्शन मेमोरियल मेथोडिस्ट चर्च में सुबह में आराधना हुई। फादर रेव्ह जगदीश मसीह ने कहा कि प्रभु यीशु पापियों को पाप से दूर करने इस धरती पर मानव रुप में जन्म लिये। चर्च में सुबह से लेकर देर रात तक उत्सव माहौल रहा। मोमबत्ती जलाकर प्रार्थना हुई। चर्च को झिलमिल रोशनी से सजाया गया था। चर्च परिसर एवं सड़क पर मेले से नजारा रहा।

Photo by Sudhansu

चर्च ऑफ नार्थ इंडिया श्रद्धालुओं से रहा गुलजार 

चक्कर मैदान स्थित चर्च ऑफ नार्थ इंडिया श्रद्धालुओं से गुलजार रहा।  फादर आचार्य वीरेंद्र कुमार ने प्रभु यीशु के जन्म एवं उनके संदेशों पर विस्तार से रोशनी डाली। यहां अन्य राज्य से भी ईसाई समुदाय के लोग पहुंचे। अन्य समाज के लोगों ने भी यहां पहुंचकर ईसाई समाज के लोगों को बधाइयां दीं।

सजे घर, बने पकवान, बोला हैप्पी क्रिसमस 

ईसाई समुदाय के लोगों ने अपने घरों की सजावट की। केक समेत कई पकवान बने। एक दूसरे को हैप्पी क्रिसमस बोला। सुबह से लेकर देर रात तक विश करने वालों का तांता रहा। अन्य समाज के मित्रों ने इन परिवारों में पहुंचकर बधाइयां दीं। साथ ही पकवानों का जमकर लुत्फ लिया। बच्चों ने घरों पर भी प्रभु यीशु की झांकियां सजाईं।

सेल्फी लेने में युवक-युवतियों में होड़

क्रिसमस पर चर्च पिकनिक स्पॉट बन गया। युवक व युवतियां में सेल्फी लेने की होड़ रही। यहीं दृश्य पार्क, रेस्टूरेंट आदि जगहों पर भी रहा।

सबने उठाया क्रिसमस का आनंद

हर उम्र व वर्ग के लोगों ने क्रिसमस का आनंद उठाया। प्रार्थना के साथ सुबह जैसे ही क्रिसमस मेला शुरू हुआ, भीड़ बढऩे लगी, जो देर शाम तक रही। खिलौनों व चटपटे व्यंजनों की दुकानों पर भीड़ रही तो चर्खी व झूला के लिए लाइन लगी रही। बच्चों संग बड़ों ने भी झूले का आनंद लिया। चर्च परिसर में खानपान, खिलौने, एवं इलेक्ट्रानिक सामानों आदि के स्टाल थे। चाट, गोलगप्पा, चाउमिंग आदि चटपटे व्यंजनों का लुत्फ उठाए। सुरक्षा को लेकर पुलिस बल तैनात थे।

प्रभु यीशु के प्रमुख संदेश 

– जिस तरह से पिता ने मुझसे प्रेम किया है ठीक उसी प्रकार मैंने भी तुमसे प्रेम किया है।

– ध्यान से देखो। मैं दरवाजे पर खड़ा हूं, और आपका दरवाजा खटखटा रहा हूं, अगर कोई मेरी आवाज सुनकर दरवाजा खोलता है तो मैं अंदर आऊंगा और उसके साथ भोजन करुंगा और वो मेरे साथ करेगा।

– अपने दिल को मुश्किल में मत डालो. गॉड पर भरोसा रखो और मुझ पर विश्वास करो।

– सभी घुटने मेरे सामने झुकेंगे और सभी जुबान गॉड की महिमा करेगी।

– – उनको जो खुद की प्रशंसा करते है उनको विनम्र किया जायेगा और जो खुद को विनम्र करते है उनकी प्रशंसा होगी।

– गॉड इस संसार से इतना प्रेम करते है की उन्होंने अपना इकलौता पुत्र दे दिया. वह जो इसमें यकीन करेगा वह मरेगा नहीं बल्कि उसका जीवन अमर हो जायेगा।

– उस व्यक्ति को भला क्या फायदा, जिसे अगर पूरी दुनिया मिल जाए लेकिन अपनी आत्मा को खोने की पीड़ा सहनी पड़े।

– जो तुमसे मांगता है उसे दे दो और जो तुम्हारा सामान ले जाए उसे दुबारा मत पूछो. जैसा व्यवहार आप उन लोगो से चाहते हो वैसा ही व्यवहार उनके साथ करो।

– मैं मार्ग हूं सत्य हूं और जीवन हूं मेरे पास आये बिना कोई फादर तक नहीं पहुंचता।

Input : Dainik Jagran