Home Muzaffarpur ब्रजेश के पास से मिले कई मंत्री, विधायक और अफसर के नंबर

ब्रजेश के पास से मिले कई मंत्री, विधायक और अफसर के नंबर

5
0

जेल में बंद ब्रजेश ठाकुर से हाई प्रोफाइल लोगों के मोबाइल नम्बर मिले हैं। सूत्रों के मुताबिक नाम और नम्बर की जो लिस्ट ब्रजेश के पास से मिली है उसमें कई मंत्री, विधायक और अफसर भी हैं। लिस्ट में वीवीआईपी के नाम को देखते हुए अधिकारी काफी गोपनीयता बरत रहे हैं। बताया जाता है कि सीबीआई की टीम ने भी मुजफ्फणपुर जिला प्रशासन से इस बाबत जानकारी मांगी है। संभावना है कि जल्द ही सीबीआई और मुजफ्फरपुर पुलिस उन नम्बरों को लेकर अपनी जांच शुरू कर सकती है। हालांकि न तो पुलिस न ही सीबीआई इसपर कुछ बोलने को तैयार है।

शनिवार को सूबे के जेलों में छापेमारी के क्रम में मुजफ्फरपुर केन्द्रीय कारागार में हुई छापेमारी में मुजफ्फणपुर जेल में बंद ब्रजेश ठाकुर की भी तलाशी ली गई थी। सूत्रों के मुताबिक उसके पास से दो कागजों पर लिखे 40 वीवीआईपी के नम्बर प्रशासन को मिले हैं। ये नम्बर राजनीतिक सूरख रखनेवालों से लेकर बड़े अफसरों तक के हैं। साथ ही, कई विधायक और राजनीतिक दलों से जुड़े नेताओं के साथ ही मुजफ्फरपुर और पटना में तैनात अफसरों के भी नाम और मोबाइल नम्बर ब्रजेश के पास मौजूद थे। बरामद कागज पर आम लोगों के भी नाम और नम्बर दर्ज हैं जो संभवत: ब्रजेश के जाननेवालों का हो सकता है।

निकाला जा सकता है सीडीआर-

ब्रजेश के पास से मिले मोबाइल नम्बर का कॉल डिटेल्स रिकार्ड (सीडीआर) निकालने की तैयारी है। सीडीआर निकालने के दो मकसद हैं। पहला यह पता लगाना कि मोबाइल नम्बर वाकई उन्हीं लोगों के हैं, जो कागज पर लिखे हैं या किसी दूसरे का है। दूसरा, यह देखा जाएगा कि उनकी बातचीत ब्रजेश से होती थी या नहीं।

विभाग को बिना जानकारी दिए चल रहे थे अल्पावास गृह-

जिले में बालिका गृह व दत्तक गृह समेत अन्य किसी भी अल्पावास की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के पास नहीं है। बाल संरक्षण इकाई व कल्याण विभाग से संचालित इन अल्पावास गृहों में मेडिकल सुविधा को लेकर स्वास्थ्य विभाग से संपर्क नहीं किया गया। खुलासा बाल अधिकार संरक्षण आयोग को दिए विभाग के जवाब से हुआ है।

विभाग और एनजीओ की चिट्ठी सीबीआई को मिली-

बालिका गृह यौन शोषण मामले की जांच कर रही सीबीआई के हाथ अहम दस्तावेज लगे हैं। इन दस्तवेजों ने जांच में जुटे सीबीआई अफसरों के चेहरे पर मुस्कान ला दी है। हो भी क्यों नहीं, तलाशी में जो कागजात हाथ लगे हैं वह समाज कल्याण विभाग और ब्रजेश की स्वयंसेवी संस्था ‘सेवा संकल्प एवं विकास समिति’ के बीच चल रहे खेल का खुलासा करने में काफी मददगार साबित होंगे।दोनों ओर से लिखे गए पत्र हाथ आए।

सूत्रों के मुताबिक मुजफ्फरपुर स्थित बालिका गृह की तलाशी के दौरान सीबीआई को जो अहम दस्तावेज हाथ लगे हैं उसमें समाज कल्याण विभाग और एनजीओ के बीच हुए पत्राचार की कॉपियां भी शामिल हैं। इन पत्रों से सीबीआई को काफी कुछ हाथ लग सकता है। कब क्या हुआ, एनजीओ या विभाग की ओर से किन कारणों से पत्र लिखा गया और दोनों ओर से इसका क्या जवाब दिया गया जैसी अहम जानकारियां इन चिट्ठियों से मिलेगी। सीबीआई ने अपने कब्जे में लिए इन पत्रों का जल्द अध्ययन करेगी।

Input : Live Hindustan

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here