मुजफ्फरपुर की जनसंख्या आधा करोड़ के पार, जनसंख्या स्थिरीकरण के लिए चल रहे अभियान पर उठे सवाल

मुजफ्फरपुर जि‍ले की जनसंख्या आधा करोड़ पार कर गई। इसका ग्राफ 5670824 लाख है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से नियमित चलने वाले स्वास्थ्य कार्यक्रम के लिए कराए गए सर्वे में जनसंख्या का आकलन किया गया है। सबसे ज्यादा जनसंख्या कुढऩी की पांच लाख 21 हजार 802 और सबसे कम मुरौल की 113020 है। इससे सरकार की ओर से जनसंख्या स्थिरीकरण के लिए चल रहे अभियान पर सवाल उठ रहे है।

स‍िवि‍ल सर्जन ने कहा जनसंख्या वृद्धि चिंता का विषय 

जनसंख्या का ग्राफ लगातार बढ़ रहा है। विभाग से मिली जानकारी के अनुसार वर्ष 2011 में जिले की जनसंख्या 4801054 थी। ये 2017 में 5670824 पर पहुंच गई है। जनसंख्या रोकथाम के लिए बंध्याकरण ऑपरेशन, गर्भ निरोधक उपाय का प्रचार विभाग की ओर से चल रहा है। आरोप है कि अभियान का शत-प्रतिशत प्रभाव अभी जमीन पर नहीं दिख रहा है। सिविल सर्जन  डॉ.शिवचंद्र भगत ने कहा कि जनसंख्या वृद्धि चिंता का विषय है। इसके स्थिरीकरण के लिए लगातार अभियान चल रहा है।

सभी अस्पताल में बंध्याकरण, गर्भ निरोधक साधन मुफ्त में उपलब्ध हैं। आम लोगों से अपील है कि वह सरकार के अभियान में सहयोग करें। संस्थागत प्रसव व जो साधन है उसका ज्यादा से ज्यादा उपयोग होना चाहिए। 22 नवंबर से 4 दिसंबर तक पुरुष नसबंदी पखवाड़ा चलेगा। इसमें भी ज्यादा से ज्यादा भागीदारी होनी चाहिए।

प्रखंडवार जनसंख्या का हाल

औराई का 352246, बंदरा 162347, बोचहां 279489, गायघाट 307359, कांटी 322701, कटरा 289711, कुढऩी 521802, मड़वन 188018, मीनापुर 392556, मोतीपुर 463136, मुरौल 113020, मुशहरी 378961, पारू 415569, साहेबगंज 277160, सकरा 367513 व सरैया 376803।

Input : Dainik Jagran

 

0 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
0 Shares