Home Muzaffarpur मुजफ्फरपुर में 2 जुलाई को हुए दोहरे हत्याकांड के आरोपी अरेस्ट, जमीन...

मुजफ्फरपुर में 2 जुलाई को हुए दोहरे हत्याकांड के आरोपी अरेस्ट, जमीन विवाद का था मामला

55
0

मुजफ्फरपुर ज़िला के आहियापुर थाना क्षेत्र के दो जमीन व्यवसाई मर्डर केस का मुख्य आरोपी गिरफ्तार हो गया है. दो जुलाई को ज़िला के मीनापुर थाना क्षेत्र के हजरतपुर गांव से हरिश्चंद्र सहनी का शव का शव बरामद हुआ था. वही से महज 10 मीटर की दूरी पर पांच जुलाई को बिजली सहनी का शव बरामद हुआ था. बता दे कि 3 जुलाई को मृतक बिजली सहनी के पुत्र शशि साहनी के द्वारा अहियापुर थाना में आवेदन दिया गया था. जिसमे उसके पिता के घर से गायब होने की बात लिखी गई थी. इस आवेदन पर अहियापुर थाना कांड संख्या 708/18 दर्ज कर अनुसंधान प्रारंभ किया गया.

FOOD MEAL - MUZAFAFRPUR

इस मामले में आज गुरुवार को मुजफ्फरपुर की एसएसपी हरप्रीत कौर ने आरोपियों के पकड़े जाने की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि अनुसंधान के क्रम में 4 जुलाई को कांड के प्राथमिकी अभियुक्त हरिश्चन्द्र सहनी का शव हजरतपुर गांव स्थित सोगारथ साह के ज़मीन में झाड़ी से बरामद किया गया. हरिश्चन्द्र सहनी का पहचान उनके पत्नी लक्ष्मी देवी के द्वारा करवाया गया. वही इस हत्याकांड में वीरेंद्र सहनी को नामित करते हुए मीनापुर थाना में कांड संख्या 260/18 दर्ज करवाया गया. इसी क्रम में म8नपुर थाना क्षेत्र के हजरतपुर गांव  से ही अहियापुर थाना कांड संख्या 708/18 में अपहृत बिजली सहनी का शव बरामद किया गया. जिसकी पहचान उसके पुत्र शशि सहनी के द्वारा किया गया.

अनुसंधान के क्रम में पुलिस द्वारा बिजली सहनी की पत्नी राजवंशी देवी का बयान लिया गया. राजवंशी देवी ने बताया कि बिजली सहनी की हत्या एक योजनाबद्ध तरीके से बीरेंद्र सहनी एवमं उनके पुत्रो और नंदलाल साहनी एवं उनके पुत्रो द्वारा करवाया गया है. घटना का कारण ज़मीनी विवाद था.

ये था विवाद

बता दें कि मृतक बिजली सहनी के द्वारा नंदलाल सहनी के स्वामित्व का ज़मीन अशोक झा नामक ब्रोकर को एग्रीमेंट कराया गया. जो बीरेंद्र सहनी को मंजूर नही था. उक्त एग्रीमेंट के ज़मीन को बीरेंद्र सहनी छोड़ने को कह रहा था. अन्यथा 7 लाख प्रति कठ्ठा अलग से देने को की मांग कर रहा था. जो अशोक झा को मंजूर नही था. वही बिजली साहनी को भी बिचौलिया बनने का खामियाजा भुगतने की धमकी मिल रही थी. इस पर बिजली सहनी ने भी बीरेंद्र सहनी को बोला कि तुमको जो करना है करो.जिसके बाद बीरेंद्र सहनी ने मीनापुर थाना क्षेत्र के संजय सहनी,उमाशंकर सहनी, अपने पुत्रों एवं नंदलाल सहनी के साथ मिलकर योजना बनाया.

इसी क्रम में 2 जुलाई को बिजली सहनी के करीबी हरिश्चन्द्र सहनी को मोहरा बनाकर उमाशंकर सहनी एवं मीनापुर के संजय सहनी  के माध्यम से बुलाकर मीनापुर ले गया. तथा अशोक झा को ज़मीन दिलवाने के प्रतिशोध में बिजली सहनी की हत्या कर दी गई. हत्या के वक़्त हरिश्चन्द्र सहनी ने जब हत्या का विरोध करना चाहा तो उसकी भी हत्या बीरेंद्र सहनी एवं उसके लोगो के द्वारा कर दी गई.

एसएसपी हरप्रीत कौर ने बताया कि पूरे घटनाक्रम के अनुसंधान के क्रम में यह बात स्पष्ट है कि यह हत्या बिजली सहनी द्वारा मध्यस्थता कर नंदलाल सहनी जो बीरेंद्र सहनी का साला है. जो 100 डी. ज़मीन अशोक झा को दिलवाने के प्रतिशोध में हुई है. जिसमे अबतक बीरेंद्र सहनी, रतन सहनी, अवनीश सहनी, रजनीश सहनी, नंदलाल सहनी, राजा सहनी, संजय सहनी, लालबाबू सहनी की संलिप्तता सामने आई है. बीरेंद्र सहनी, अवनीश सहनी एवं राजा सहनी को गिरफ्तार कर लिया गया है.

Input : Live Cities

ACME Solutions, Muzaffarpur, GST, Tally Software


 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here