हालात बदतर : ट्रैफिक संभालने में पुलिस विफल

54

शहर की ट्रैफिक संभालने में यातायात पुलिसिया व्यवस्था विफल दिख रही है। दूसरी तरफ इस बदतर स्थिति को पटरी पर लाने के लिए प्रशासनिक कवायद भी नहीं दिख रही। पिछले 5 दिनों से शहर के प्रमुख मार्गों पर भीषण जाम की वजह से स्कूली बच्चे डेढ़ से दो घंटे देर से घर पहुंच रहे हैं। आमलोग परेशान हैं। लेकिन, ट्रैफिक पुलिस इसके लिए चिंतित नहीं दिख रही। वैसे आला अधिकारियों के आवास से कार्यालय जाने के दौरान जूरन छपरा से कंपनीबाग रोड में पुलिस की सक्रियता जरूर दिखती है। ट्रैफिक इंचार्ज स्वयं करबला मोड़ पर मुस्तैद दिखते हैं। लेकिन, शुक्रवार को भी शहर का शायद ही कोई प्रमुख इलाका ऐसा नहीं बचा, जहां 2-3 घंटे तक ट्रैफिक बेपटरी न रही हो। इधर, लोगों को अभी से ट्रैफिक की स्थिति चरमराने के कारण दुर्गा पूजा के समय की चिंता सताने लगी है। महेश बाबू चौक पर शुक्रवार को ऑटो चालक व बाइक सवार में जाम को लेकर झड़प हो गई।

अखाड़ाघाट पुल पर सुबह में भी जाम लगा। पुलिस, करीब साढ़े 10 बजे से सक्रिय हुई तो लोगों को राहत मिली। 12 बजे अघोरिया बाजार से रामदयालुनगर व अघोरिया बाजार से कलमबाग चौक पर घंटे भर से ज्यादा जाम लगा रहा। यही स्थिति जवाहरलाल रोड व हरिसभा इलाके में भी रही। सबसे बदतर स्थिति जूरन छपरा, इमलीचट्टी व महेश बाबू चौक की रही। महेश बाबू चौक पर तीनों तरफ से लंबी कतार लगने के बाद इमलीचट्टी पोस्ट के सिपाही को महेश बाबू चौक पर पहुंचना पड़ा। इसके बावजूद जाम नहीं खत्म हुआ। तीन घंटे तक डीएम आवास मोड़ से जूरन छपरा होते हुए महेश बाबू चौके के आगे मेहंदी हसनी चौक तक जाम में लोग जूझते रहे। एंबुलेंस को भी निकलने का रास्ता नहीं मिल रहा था। क्यूआरटी भी जाम में जूझती रही। शाम 5 बजे जाकर स्थिति सुधरी।

Input : Dainik Bhaskar