नालंदा : बिहार के नालंदा जिले में जहरीली शराब पीने से 12 लोगों की मौत के बाद अब तक 19 शराब धंधेबाजों को जेल भेजा जा चुका हैं। नालंदा जिला प्रशासन ने सभी 19 शराब धंधेबाजों के घरों पर अवैध निर्माण का नोटिस भेज जवाब मांगा था लेकिन दिये हुये समय पर धंधेबाजों के परिवार द्वारा मकान संबधी किसी भी तरह का कोई जमीन और घर का कागजात प्रस्तुत नहीं किया गया । नोटिस का कोई जबाब न मिलने पर शुक्रवार से शराब धंधेबाजों के घरों पर बुलडोजर चलाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई। जहरीली शराब पीने से मौत के बाद बिहार का यह पहला मामला है, जिसमें शराब बेचने वालों पर कार्रवाई करते हुए मकानो को तोड़ा गया।

भारी संख्या मे पुलिश बल तैनात

अनुमंडल पदाधिकारी के नेतृत्व में जहरीली शराब कांड की मेन मास्टरमाइंड सुनीता देवी उर्फ सुनीता मैडम के घरों को भी तोड़ा गया। इस कार्रवाई के दौरान किसी तरह का कोई झंझट न हो इसके लिए डीएसपी, सर्किल इंस्पेक्टर, डीसीएलआर, अंचलाधिकारी और प्रखण्ड विकास पदाधिकारी के साथ भारी संख्या में पुलिस बलों की तैनाती भी की गई थी। वैसे शराब कांड के बाद जिला प्रशासन द्वारा इस इलाके का सर्वे कर लगभग 1200 से अधिक लोगों को नोटिस देकर जमीन संबंधित कागजातों की मांग की गई थी। लेकिन भारी हंगामे के बाद सिर्फ प्रशासन के लोगो ने केवल जहरीली शराब कांड के आरोपियों के घर को हीं तोड़ने की बात कही थी।

इन धंधेबाजों के टूटे मकान

इस कारवाई मे पंकज पंडित, देवानंद पासवान, सुनीता मैडम, मीना देवी उर्फ बुढ़िया, संजय पासवान उर्फ भोमा, सूरज कुमार, नगीना चौधरी, संतोष चौधरी, जितेंद्र कुमार उर्फ बोकरा, अंडा चौधरी, आकाश पासवान, विकास पासवान, कारू पासवान, जितेंद्र चौधरी, रंजीत पासवान, पुकार विंद, चिंटू कुमार, मितु चौधरी और चंदन पासवान के मकानों को आज प्रशाशन के द्वारा तोड़ा जा रहा है।

Previous articleसीएम नितीश श्रीकृष्ण सेतु और घोरघट पुल का आज करेंगे लोकार्पण
Next articleपटना में अतिक्रमण हटाने गए मजिस्ट्रेट के साथ मार पीट