भारी बारिश से देशभर में हाहाकार, कई जगहों पर 24 घंटे होगी वर्षा, तस्वीरों में देखें बाढ़ का कहर

245

देश के कई हिस्सों में भारी बारिश के बाद बाढ़ आ गई है। जिससे जन-जीवन बुरी तरह प्रभावित हो गया है। मिजोरम में भी भारी बारिश की वजह से तलबुंग शहर में बाढ़ आने के बाद क्षेत्र में लगभग 300 घर खाली करवा दिए गए हैं। असम में भी बारिश की वजह से सभी नौका सेवाएं बंद कर दी गई हैं।

मौसम विभाग के अनुसार हिमाचल प्रदेश के चंबा, कांगड़ा, ऊना, हमीरपुर, बिलासपुर, सोलन, सिरमौर, मंडी और शिमला के जिलों में गरज के साथ पृथक स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश जारी रह सकती है। वहीं स्काईमेट के मुताबिक अगले 24 घंटों के दौरान, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, असम, मेघालय, आंध्रा प्रदेश, बिहार, उत्तर-पूर्वी उत्तर प्रदेश, कोंकण व गोवा, तटीय कर्नाटक, उत्तराखंड व हिमाचल प्रदेश में मॉनसून सक्रिय बना रहेगा।

कम हो रहा अल नीनो का प्रभाव

अल नीनो धीरे धीरे कमजोर हो रहा है। जिस वजह से इस महीने मानसून के पहले से बेहतर रहने की संभावना है। अमेरिकी मौसम एजेंसी के मुताबिक, अल नीनो आने वाले एक या दो महीनों में गायब हो जाएगा।

क्या है अल नीनो

प्रशांत महासागर के भूमध्यीय क्षेत्र के समुद्र के तापमान और वायुमंडलीय परिस्थितियों में आए बदलाव के लिए उत्तरदायी समुद्री घटना को अल-नीनो (अल-नीनो या अल-निनो) कहा जाता है।

असम और अरूणाचल प्रदेश के ऊपरी जिलों में हो रही मूसलाधार बारिश से ब्रह्मापुत्र समेत कई नदियां उफान पर हैं। इस वजह से प्रदेश के 17 जिलों में बाढ़ की वजह से लगभग 4.5 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। शुक्रवार से सेना और एनडीआरएफ की टीमें पानी में फंसे लोगों को बाहर निकालने में जुटी हुई हैं।

खबरों के मुताबिक अभी तक बाढ़ की वजह से असम में 24 घंटों के अंदर 6 लोगों की मौत हो गई है। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अनुसार, बाढ़ की वजह से 17 जिलों के 4,23,386 लोगों को अपना घर छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा है।

बिहार में भी बाढ़

बिहार में लगातार हुई भारी बारिश के बाद कई जगहों पर पानी भर गया है। वहीं पश्चिम चंपारण में भारी वर्षा के बाद गंडक बैराज में जल का स्तर भी काफी बढ़ गया है।

पश्चिम चंपारण में कई इलाकों में भारी बारिश के बाद जलभराव हो गया है। उत्तर बिहार में लगातार पांचवें दिन शुक्रवार को भी भारी बारिश हुई। नदियों में उफान से निचले इलाके में बाढ़ का पानी घुस गया। इस दौरान घर गिरने और पानी भरे गड्ढे में डूबने से सात लोगों की मौत हो गई। पश्चिम चंपारण में गंडक का जलस्तर तेजी से बढऩे के कारण हाईअलर्ट पर रखा गया है। राजधानी पटना में गंगा नदी के जलस्तर में बढ़ोतरी देखी जा रही।

उत्तर प्रदेश में भी 15 लोगों की मौत

उत्तर प्रदेश के 14 जिलों में मूसलाधार बारिश की वजह से पिछले तीन दिनों के अंदर 15 लोगों की मौत हो गई है। आधिकारिक डाटा के अनुसार 9 जुलाई से 12 जुलाई तक राज्य में अबतक 15 लोगों और 23 जानवरों की मौत हो गई है। वहीं 133 बिल्डिंग ढह गई हैं। मूसलाधार बारिश से प्रभावित होने वाले क्षेत्रों में प्रयागराज, गौरखपुर, कानपुर नगर, पीलीभित सौनभद्रा, चंदौली, फिरोजाबाद, मऊ और सुल्तानपुर शामिल हैं।

पुडुचेरी में भी भारी बारिश

पुडुचेरी में भी भारी बारिश हो रही है। वहां भी कई इलाकों में पानी भर गया है।

पश्चिम बंगाल में बारिश के बाद भरा पानी

पश्चिम बंगाल में भी लगातार बारिश के बाद कूच बिहार जिले में जलभराव हो गया है। सड़कों पर बुरी तरह से पानी भर गया है। पानी भरने की वजह से लोग अपने घरों से भी नहीं निकल पा रहे हैं।