पूर्णिया से बड़ी खबर आ रही है. यह खबर राहत भरी है. सोमवार की दोपहर में अपहृत 7 साल की नाव्या को पुलिस ने बरामद कर लिया. पूर्णिया के व्यवसायी सुरेंद्र जैन की बेटी नाव्या को पुलिस ने किशनगंज से बरामद कर लिया है. बच्ची के मिलने से घर के लोग अब राहत की सांस ले रहे हैं. किशनगंज से बरामद बच्ची को अब पूर्णिया लाया जा रहा है. वहीं अब वहां व्यापारियों ने अपना आंदोलन वापस ले लिया है. इस संबंध में चार अपहर्ता को भी गिरफ्तार कर लिया गया है. कार भी पुलिस ने जब्त कर ली है.

बता दें कि सोमवार की दोपहर में ही पूर्णिया के भीड़भाड़ वाले गुलाबबाग के सनौली चौक से सुरेंद्र जैन की बेटी नाव्या का अपहरण कर लिया गया था. सोमवार को छुट्टी के बाद नाव्या अन्य बच्चों के साथ स्कूल की बस से घर लौट रही थी. इसी दौरान रिनॉल्ट कार में सवार अपराधियों ने बस का पीछा कर घटना को अंजाम दिया. घटना की जानकारी मिलते ही घर में कोहराम मच गया. वहां में लोगों की भीड़ जुट गयी.

उधर घटना के विरोध में व्यापारियों ने गुलाबबाग मंडी की सभी दुकानों को बंद करा दिया था. व्यापारी गुस्से में थे. वे सब बड़े आंदोलन की धमकी दे रहे थे. लेकिन पूर्णिया के नये एसपी विशाल शर्मा ने इस मामले को चुनौती के रूप में लिया. उन्होंने ताबड़तोड़ छापेमारी कराई. सीसीटीवी फुटेज से गाड़ी का लोकेशन लिया गया. सबसे बड़ी चुनौती थी कि कार में कोई नंबर नहीं था.

बताया जा रहा है कि पुलिस के दबाव में अपहर्ताओं ने नाव्या को किशनगंज के अकबरपुर थाना क्षेत्र में छोड़ दिया गया. अकबरपुर पुलिस ने इसकी सूचना किशनगंज मुख्यालय को दी. इसके बाद पूर्णिया पुलिस को बच्ची की बरामदगी की सूचना दी गयी. वहीं बच्ची के मिलने से घर के लोगों में खुशी दौड़ गयी है. पुलिस भी इस सफलता से काफी खुश है. व्यापारियों ने आंदोलन की घोषणा को वापस ले लिया है.

Input : Live Cities

 

Previous articleCBSE : इस दिन आएगा सीबीएसई का रिजल्ट, ऐसे करें चेक
Next articleनिगम में पुलिस बल के उपयोग के लिए बनी टीम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here