अंडे के फायदे, नुकसान और उपयोग को लेकर भले ही सबके अपने-अपने दावे और तर्क हों, पर सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (एसवीबीपी कृषि विवि) मेरठ ने आयुर्वेदिक अंडों के उत्पादन की ओर कदम बढ़ाते हुए एक साथ कई संभावनाओं के द्वार खोले हैं। एक तरफ जहां यह अतिरिक्त रूप से स्वास्थ्यवर्धक होगा, वहीं किसानों की आय दोगुना करने के सरकार के अभियान को भी मजबूती देगा। हालांकि दक्षिण भारत में इसकी शुरुआत पहले ही हो चुकी है, लेकिन उत्तर भारत में संभवत: इसे पहला प्रयास माना जा रहा है।

विवि के कुक्कुट अनुसंधान एवं प्रशिक्षण केंद्र के प्रभारी डॉ. डीके सिंह ने बताया कि इस अंडे को आयुर्वेदिक इसलिए कहा जाता है, क्योंकि इस प्रक्रिया में मुर्गियों को जो आहार दिया जाता है उसमें आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का मिश्रण होता है। सामान्य रूप से मुर्गी का अंडा सफेद होता है, लेकिन इस प्रक्रिया से तैयार अंडा हल्का गुलाबीपन लिए होता है।

 

डॉ. डीके सिंह ने बताया कि मुर्गी के आहार चार्ट पर काम चल रहा है, लेकिन इसमें अनाज जैसे मक्का, बाजरा, दाल की बजरी और जड़ी बूटियों के मिश्रण का उपयोग होना तय है। कुल 15 तरह की जड़ी-बूटियों का मिश्रण तैयार किया जाएगा। हल्दी और लहसुन भी मुर्गियों को खिलाया जाएगा।

कुलपति प्रो. गया प्रसाद का कहना है कि आयुर्वेदिक अंडा किसानों की आय बढ़ाने का अच्छा साधन बन सकता है। प्रधानमंत्री का किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य भी इससे हासिल होगा। विवि की हेचरी में इसके लिए उत्पादन और प्रशिक्षिण कार्यक्रम चलाया जा रहा है।

आधी कीमत में तैयार हो जाएगा

बेंगलुरु और हैदराबाद से आयुर्वेदिक अंडे दिल्ली जैसे महानगरों में सीमित मात्रा में सप्लाई हो रहे हैं। इनकी कीमत 23-24 रुपये प्रति अंडा है, जबकि विवि की हेचरी में इसे 12 से 15 रुपये में तैयार कर लिया जाएगा।

Input : Dainik Jagran

Previous articleफेसबुक डाटा लीक मामले में मोदी सरकार सख्‍त, फेसबुक से मांगी जानकारी
Next articleसशक्त स्थायी समिति की बैठक | पानी टैंकर, शौचालय की सफाई, विज्ञापन समेत कई अन्य शुल्क में बढ़ोतरी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here