मिताली ने BCCI को लिखा खत- “कोच ने अपमानित किया, बर्बाद कर देना चाहते हैं मेरा करियर कुछ लोग”

भारतीय महिला क्रिकेट अभी कॉन्ट्रोवर्सी के दौर से गुजर रहा है। मंगलवार को बाद और बिगड़ गई जब पूर्व कप्तान और भारतीय महिला टीम की सबसे कामयाब बल्लेबाज मिताली राज का BCCI को लिखा एक पत्र सामने आया जिसमें मिताली ने कोच रमेश पोवार पर उन्हें अपमानित करने का आरोप लगाया और प्रशासकों की समिति (COA) की सदस्य डायना एडुल्जी को पक्षपाती करार दिया।

हाल ही में खत्म हुए T-20 वर्ल्ड कप में मिताली को इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में मौका नहीं दिया गया था, जबकि उन्होंने टूर्नामेंट में दो हाफ सेंचुरी मारी थी। भारत यह मैच 8 विकेट से हार गया था। तभी से टीम में विवाद है। मिताली के मुताबिक़ सत्ता में बैठे कुछ लोग उनका करियर बर्बाद करना चाहते हैं। उन्होंने ये भी लिखा कि ऐसे लोग अपने पद का उनके खिलाफ गलत इस्तेमाल कर रहे हैं। इस बीच, पोवार ने मिताली के आरोपों पर टिप्पणी करने से साफ़ इनकार किया। एडुल्जी से भी संपर्क नहीं हो सका।

क्या लिखा मितली ने खत में ?

‘20 साल के करियर में मैं पहली बार खुद को अपमानित, हतोत्साहित, निराश महसूस कर रही हूं। मैं यह सोचने पर मजबूर हूं कि जो लोग मेरा करियर तबाह करना चाहते हैं और मेरा आत्मविश्वास तोड़ना चाहते हैं, उनके लिए देश को दी जाने वाली मेरी सेवाओं की कोई अहमियत नहीं है।’

मिताली ने पत्र में ऐसी कई घटनाओं का जिक्र किया, जिनमें कोच पोवार के कारण उन्होंने खुद को अपमानित महसूस किया। मिताली ने लिखा, ‘उदाहरण के लिए, मैं जहां भी कहीं बैठती थी, वे उठकर चले जाते थे, नेट्स पर जब दूसरी बल्लेबाज अभ्यास कर रही होती थीं तो वे मौजूद रहते थे, लेकिन जैसे ही मैं बल्लेबाजी के लिए जाती, वे वहां से चले जाते थे। यदि मैं उनसे बात करने की कोशिश करती तो वे अपने फोन में कुछ देखने लगते और वहां से निकल जाते। यह किसी के लिए भी शर्मनाक था। यह बिल्कुल स्पष्ट था कि मुझे अपमानित किया जा रहा था। इसके बावजूद मैंने कभी भी अपना धैर्य नहीं खोया।’

‘मैं यह भी बताना चाहती हूं कि मैं टी-20 की कप्तान हरमनप्रीत के बिल्कुल भी खिलाफ नहीं हूं, सिवाय इसके छोड़कर कि उन्होंने आखिरी-11 से मुझे बाहर रखने के कोच के फैसला का समर्थन किया। वह फैसला समझ से परे और टीम के लिए हानिकारक साबित हुआ। मैं अपने देश के लिए वर्ल्ड कप जीतना चाहती हूं। कोच के फैसले से मैं दुखी हूं कि हमने एक सुनहरा मौका गंवा दिया।’

‘मैंने डायना एडुल्जी में हमेशा विश्वास जाहिर किया है। सीओए की सदस्य के तौर पर मैंने हमेशा उनकी इज्जत की है। मैंने कभी नहीं सोचा था कि वे मेरे खिलाफ अपने पद का इस्तेमाल करेंगी। वह भी यह सुनने के बाद कि वेस्टइंडीज में मुझे क्या करना है, क्योंकि इस संबंध में मैंने उनसे चर्चा की थी। लेकिन उन्होंने मीडिया में टी-20 विश्व कप के सेमीफाइनल में मुझे बेंच पर बैठाने के फैसले का जोरदार समर्थन किया। इस बात ने मुझे बहुत परेशान किया, क्योंकि मैंने उन्हें वास्तविक तथ्यों से अवगत कराया था।’

मिताली ने पत्र में डायना एडुल्जी को भी पक्षपाती बताया। एडुल्जी ने मिताली के नहीं चुने जाने के फैसले का बचाव किया था। एडुल्जी ने कहा था कि मिताली को बाहर रखने के फैसले पर सवाल नहीं उठाए जा सकते। वह दिन ही भारतीय टीम के लिए खराब था। एडुल्जी महिला क्रिकेट टीम की कप्तान रह चुकी हैं।

343 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
343 Shares