मुजफ्फरपुर : यूपी से मुजफ्फरपुर दर्जनों बार शराब की खेप लाने वाले शराब तस्करो को उत्पाद विभाग की टिम ने आखिरकार अपने हत्थे चढ़ा हीं लिया । इन शराब तस्करो के पास एक मंहगी बैग 38 शराब की बोतल मिली। तस्करों की पहचान हथौड़ी के शेखर और अहियापुर के जीनू कुमार के रूप में हुई है। इन दोनों के अलावा उत्पाद विभाग की टिम ने ने अलग-अलग जगहों से 8 शराब धंधेबाज़ों को पकड़ा है। इन आठों की पहचान पानापुर के निर्मल कुमार, सिवाईपट्टी के फेकन राम, राजकुमार सहनी, नागेश्वर सहनी, मोतीपुर के मोहन साह तथा भरत चौधरी के रूप में हुई है।

पहले 1-2 बोतल हीं बेचते थे

उत्पाद इंस्पेक्टर अभिनव कुमार ने बताया कि इन सभी के खिलाफ अभियोग दर्ज कर जेल भेजने की प्रक्रिया की जा रही है। साथ हीं बताया कि शेखर और जीनू दोनो हीं बचपन से एक दूसरे को जानते हैं और ये दोनों पढाई-लिखाई भी साथ करते हैं। इन दोनों ने एक साथ मे मिलकर शराब तस्करी का धंधा शुरू किया था । पहले 1-2 बोतल बेचते थे। लेकिन, बाद मे ये दोनों शराब की तस्करी बड़े पैमाने पर करने लगे।

पार्टनरी मे करते थे शराब तस्करी

उत्पाद इंस्पेक्टर ने ये भी बताया की ये दोनों साथ मे पार्टनर के रूप मे शराब के इस धंधे को करते थे। उत्तर प्रदेश और दिल्ली जाकर शराब की खेप ट्रेन या बस से लेकर आते थे। फिर यहां इलाको में सप्लाई कर दिया करते थे। इसकी भनक उत्पाद विभाग को पहले हीं लग गयी थी। भनक लगते हीं उत्पाद बिभाग की टीम ने जाल बिछाना शुरू कर दिया था । और इसी दौरान ये दोनों फिर उत्तर प्रदेश से शराब की खेप लेकर आए। फिर टीम ने इनपर धावा बोल दिया और दोनों तस्कर पार्टनर को रंगे हाथ दबोच लिया।

Previous articleसांसद अजय निषाद ने सम्पूर्णक्रान्ति एक्सप्रेस को राजेन्द्र नगर के बजाय मुजफ्फरपुर से परिचालन करने को लेकर रेल मंत्री को लिखा पत्र
Next articleलता मंगेशकर अपने पीछे इतने अरब की संपत्ति छोड़ गई हैं