भारत में सड़क दुर्घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं. सड़क सुरक्षा आज के भारत की सबसे महत्वपूर्ण जरूरत बन चुका है. 1990 के दशक में भारतीय सड़कों पर वाहनों की संख्या 3 करोड़ के पास थी जो आज बढ़कर 15 करोड़ का आंकड़ा पार कर गयी है. जो निरंतर गति से बढ़ती ही जा रही है. स्पष्ट है वाहनों की लगातार बढ़ती संख्या भारत जैसे देश के लिए एक विनाशकारी संकट का स्पष्ट संकेत दे रही है. गत गुरुवार बिहार के मोतिहारी जिले के एनएच-18 कोलवा के पास गुरुवार को बस पलटने से बस में आग लग गई, जिसमें करीब 13 लोग सवार थे. दुर्घटनाग्रस्त बस में सवार 7 घायल यात्रियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. जबकि 6 यात्री अभी भी लापता है.

आपको बता दें कि मुज़फ़्फ़रपुर के बैरिया से दर्जनों बस का संचालन होता है. जिसमे ज्यादातर बस अवैध रूप से चलाया जा रहा है. बता दें कि बैरिया से चलने वाली ज्यादातर बस UP नम्बर होता है. जिनको टूरिस्ट परमिट मिला होता है. टूरिस्ट परमिट 15 दिन या एक महीना के लिए दिया जाता है. जिसमे बस के मालिकों द्वारा दर्शाया जाता है कि वो बिहार टूरिस्ट को लेकर जाएंगे. अपितु रेगुलर फेरा लगाया जाता है. मुज़फ़्फ़रपुर से दिल्ली के लिए टूरिस्ट परमिट पर फेरा लगाने का कारोबार जोर-शोर से चल रहा है.

muzaffarpur, delhi, buses, illegal

यात्रियों के साथ करते है दुर्व्यवहार 

आपको बता दें कि बीते दिनों में मुज़फ़्फ़रपुर ज़िला के सामाजिक कार्यकर्ता ब्रजेश कुमार पर भी बैरिया में जानलेवा हमला हो चुका है. ब्रजेश कुमार ने अहियापुर थाना में प्राथमिकी भी दर्ज करवाया था. अपितु कोई उचित कार्रवाई नहीं हुई. ब्रजेश कुमार ने इस घटना की सूचना बिहार के मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री, दिल्ली ट्रैफिक पुलिस सहित कई जगहों पर दी. अपितु अभी तक उन्हें इंसाफ नहीं मिला है.

पर्यटन मंत्री भी है बेपरवाह

आपको बता दें कि गत सप्ताह बिहार के पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार के द्वारा मुज़फ़्फ़रपुर के बैरिया से एक निजी बस सर्विस का शुभारंभ किया गया. पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार ने हरी झंडी दिखाकर बस सर्विस का शुभारंभ किया. मंत्री जी ने यह भी जानना जरूरी नहीं समझा कि बैरिया से संचालित होने वाली बसों का परमिट है या नहीं.

गौरतलब है कि बिहार परिवहन विभाग के द्वारा मुज़फ़्फ़रपुर DTO को पूर्व में आदेश आया हुआ है कि मुज़फ़्फ़रपुर से दिल्ली के लिए अवैध रूप से बस का संचालन हो रहा है. इसपर जल्द से जल्द उचित कार्यवाई करें. अपितु मुज़फ़्फ़रपुर DTO परिवहन विभाग के आदेश को परे रख, चैन की नींद सो रही है.

देखें वीडियो:

Input : Live Cities

Previous articleमोतिहारी बस हादसा: टूरिस्ट परमिट पर दौड़ रही है दिल्ली से बिहार जाने वाली 42 बसें, दांव पर जान
Next articleमुज़फ़्फ़रपुर में एक बार फिर से ट्रेफिक वाला खेल शुरू कर रहे है डीएम साहब

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here