ऐ बाबा गरीबनाथ की धरती है ऐ ऐ मुज़फ़्फ़रपुर शाह की शान है।
जब जब इसे किसी भी शक्ति ने
जलाने और मिटाने की कोशिश की है तब तब खुद भगवान ने इसे बचाया है।

कोई इतने आसानी से इसे कैसे जला सकता है।

इसे संयोग कहे या बाबा गरीबनाथ की कृपा।जब मुज़फ़्फ़रपुर में हिंसा की आग तेज होने लगी है तभी भगवान ने बदलो को बरसाना शुरू कर दिया।

जो भी हुआ ऊपर वाले ने अच्छा ही किया बाद बाकी आंदोलन की मांग तो सरकार तक पहुँच ही गई है रहने दीजिए।
अब शांति से बारिश का मजा लीजिये।
संत राज़ बिहारी की कलम से।

Previous articleहाइवे पर सन्नाटा, बैरिया व चांदनी चौक पर आवागमन ठप
Next articleअगर आंदोलन का तरीका ऐसा हो तो समाज भी जागरूक होगा और उद्देश्य भी सफल होगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here